संवाद सूत्र, मेदिनीपुर : पश्चिम मेदिनीपुर जिला अंतर्गत मेदिनीपुर स्थित जिला शिक्षा विभागीय कार्यालय के समक्ष बुधवार को निखिल बंग शिक्षक समिति की ओर से विरोध प्रदर्शन किया गया। जिसके तहत शिक्षकों के लिए सम्मानजनक जीवन यापन की मांग की गई।

विरोध प्रदर्शन में बड़ी संख्या में वक्ताओं ने अपने विचार रखते हुए कहा कि शिक्षकों को वेतन आयोग की सिफारिशों के तहत वेतन नहीं दिया जा रहा है। इसमें हीलाहवाली की जा रही है। तमाम तरह के झुनझुनों से शिक्षकों को बहलाने की कोशिश की जा रही है, जबकि राष्ट्र निर्माण में सबसे ज्यादा योगदान शिक्षकों का होता है। शिक्षक ही नया समाज और नई पीढ़ी गढ़ते हैं। शिक्षक न हों तो स्वस्थ समाज की कल्पना नहीं की जा सकती है, लेकिन आज शिक्षक ही सबसे ज्यादा उपेक्षित हैं। समिति वर्षों से जिन सुख- सुविधाओं की मांग कर रही है उसे किसी न किसी बहाने लटकाए रखा जा रहा है, जबकि नियमित अध्यापन के साथ शिक्षकों पर तमाम कार्य लादने की कोशिश जारी है। समिति की ओर से जिला सचिव विपद रंजन भट्टाचार्य ने कहा कि शिक्षकों से केवल अध्यापन का कार्य ही लिया जाना चाहिए।

Posted By: Jagran