- तीन वर्ष पहले ही राखी महाली हुई थी लापता, भाई को मिलने की उम्मीद संवाद सूत्र, नागराकाटा: माता-पिता के न होने से पुनाई महाली पहले से ही अनाथ है। साथ ही गत तीन वर्षो से दीदी भी लापता हो चुकी है। अकेले ही पुनाई अपने दीदी की तलाश कर रहा है। दूसरे दिन तो दीदी की याद आती है, लेकिन राखी के त्योहार में दीदी राखी महाली की याद का गम भी दोगुणा हो जाता है। यह कहानी लुकसान चाय बागान इलाके की है।

स्थानीय लोगों की माने तो गत तीन वर्ष पहले अचानक 19 वर्ष की उम्र में राखी महाली लापता हो जाती है। इसके बाद से ही उसका कुछ पता नहीं चल रहा है। वर्ष 2015 से उससे किसी प्रकार का संपर्क नहीं हो सका है। रिश्तेदार के तौर पर केवल एक भाई पुनाई महाली ही है। जो लगातार पिछले तीन सालों से अपनी दीदी की तलाश में लगा हुआ है। काफी कम उम्र में ही माता-पिता की मौत हो गई थी। इसके बाद पुनाई के एकमात्र सहारे के तौर पर राखी महाली ही थी।

प्रतिवर्ष राखी के दिन पुनाई को दीदी की बहुत याद आती है। उसकी आंखे नम हो जाती है। रविवार को फिर एक बार राखी का त्योहार है। पूरे मोहल्ले में उत्सव का माहौल है। लेकिन पुनाई को सिर्फ दीदी की तस्वीर को देखकर ही अपने आप को तसल्ली देना पड़ता है।

Posted By: Jagran