संवाद सूत्र, नागराकाटा: छुट्टी के दिन सुबह-सुबह सड़क के बीच हाथियों को देखकर लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी। यह घटना रविवार सुबह को मेटली बाजार से सटे राजमार्ग के किनारे कूर्ती नदी के पास हुई है। यहां करीब 25 हाथियों का झुंड फंस गया था। ये खबर फैलते ही आसपास के चाय बागान, चालसा, मेटली समेत कई इलाकों से से लोग आने लगे। भीड़ अधिक होने के चलते हाथियों को बाहर निकलने का भी मौका नहीं मिल पा रहा था। कुछ देर बाद हाथियों का झुंड दो हिस्सों में बंट गया। 15 से 17 हाथियों का एक झुंड कूर्ती नदी के किनारे से राजमार्ग के पास बन रहे आइटीआई कॉलेज के सामने चला आया। यहां लोग हाथियों को परेशान करने लगे। इसमें से एक बड़ा हाथी निकलकर सड़क पर आ गया। यहां हाथी ने एक बाइक को तोड़ दिया। सूचना पाकर खुनिया व माल स्क्वायड के वनकर्मी मौके पर पहुंचे। वे लोग भी लोगों के भीड़ को संभाल नहीं पा रहें थे। कुछ देर बाद मेटली पुलिस भी मौके पर पहुंची। फिर ग्यारह बजे के करीब 17 हाथियों का झुंड राजमार्ग को पार करके इंडंग चाय बागान होते हुए चापरामारी जंगल में घुस गया। वहीं अन्य हाथियों का दल कूर्ती नदी के किनारे नागेश्वरी चाय बागान की एक जमीन पर आश्रय लेकर रखा था।

स्थानीय लोगों ने बताया कि हाथियों का झुंड चापरामारी जंगल से निकलकर इंडंग चाय बागान होते हुए साकामेर के जंगल में घुस गया। इलाके को हाथियों को कॉरिडर माना जाता है। शनिवार रात को ही हथियों का झुंड चापरामारी जंगल से निकलकर यहां आया था। सुबह होने से पहले जंगल में न लौट पाने के चलते ही हाथियों का झुंड फंस गया था। इधर, हाथियों को देखकर पर्यटक भी खुश हो गए। वन विभाग सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार हाथियों पर निगरानी रखी जा रही है।

Posted By: Jagran