- तार लगाने का काम अंतिम चरणों पर, लोगों को मिलेगी राहत संवाद सूत्र, वीरपाड़ा: हाथियों व लोगों के बीच बन रहे खाई को दूर करने के लिए वन विभाग की ओर से जंगल के सीमा क्षेत्रों में सोलर पैनल के माध्यम से बिजली का तार लगाने का काम समाप्ति की ओर है। वन विभाग के दलगांव रेंज के रेंजर राजीव दे ने कहा कि दलमोड़ बीट, रेति बीट, कालापानी बीट के आठ किलोमीटर इलाके में करीब 10 लाख की लागत से सौर उर्जा के तार लगाए गए हैं। इसमें बिजली की शक्ति काफी कम होगी। अगर हाथी तार को पार कर बस्ती इलाकों में घुसने की कोशिश करता है तो बिजली के सामान्य झटके से हाथी वापस जंगल की ओर चला जाएगा। ऐसा होने से लोगों के घर, फसल व अनाज को नुकसान नहीं होगा। साथ ही इंसान व हाथी के बीच बढ़ रहे संघर्ष को भी रोका जा सकता है। बिरबिटी, अपर बिरबिटी, देविशिमूल समेत कई इलाकों में हाथियों का आना जाना लगा रहता है। प्रतिवर्ष क्षतिग्रस्त परिवारों को जो मुआवजा दिया जाता है उसका 50 फीसद हिस्सा उक्त इलाकों में भी दिया जाता है। उन्होंने कहा कि अब तक जिन इलाकों में तार लगाने का काम समाप्त हो चुका है। यहां पर हाथियों के उत्पात में भी काफी कमी आई है।

ग्राम पंचायत के सदस्य लक्ष्मण लिंबु ने कहा कि वीरपाड़ा ग्राम पंचायत इलाके के न्यू लाइन में हाथियों का उत्पात काफी अधिक होता है। इसलिये उक्त इलाकों में सौर उर्जा के तार लगाने की मांग की गई है। इस मुद्दे को लेकर दलगांव रेंजर को जल्द ही ज्ञापन भी सौंपा जाएगा।

Posted By: Jagran