- बिन्नागुड़ी ग्राम पंचायत के सदस्यों ने पीएचई विभाग के मंत्री को चिट्ठी भेजकर जल्द काम कराने की मांग की

संवाद सूत्र, बानरहाट: बिन्नागुड़ी में पेयजल परियोजना का काम बीते दो वर्ष में भी पूरा नहीं हो सका है। इसे लेकर पीएचई विभाग के कार्य प्रणाली पर सवाल उठने लगे हैं। काम को जल्द से जल्द पूरा करने के लिए बिन्नागुड़ी ग्राम पंचायत की ओर से जन स्वास्थ्य कारिगरी विभाग के मंत्री को चिट्ठी दी गई है। बिन्नागुड़ी के लोगों की मांग को ध्यान में रखकर 17 करोड़ 69 लाख की लागत से पेयजल परियोजना का काम शुरू हुआ था। इसके तहत रिर्जवर का काम पूरा हो गया है, लेकिन पाइप लाइन का काम अब तक शुरू भी नहीं हो पाया है। पेयजल परियोजना का काम पूरा होने पर बिन्नागुड़ी समेत आसपास के चार चाय बागान के लोगों को पानी की आपूर्ति हो पाएगी, परंतु दो वर्ष पूरा होने के बाद भी काम पूरा नहीं हो पाया है। इस कारण विशेष तौर पर चाय बागान के श्रमिकों में काफी रोष है। लोग चाहते हैं जल्द से जल्द काम पूरा करके पानी की समस्या समाप्त की जाए।

उक्त आरोपों को लेकर बिन्नागुड़ी पीएचई विभाग ने अधिकारियों ने कहा कि दो मशीन घर और नए परियोजना के तहत पानी के टैंकी का काम पूरा करके बिन्नागुड़ी बाजार, डिपू पाड़ा, तेलीपाड़ा, हटखोला, एसएम कॉलोनी, नेताजी पाड़ा में अस्थाई पाइप लाइन की मदद से दिन में दो बार पान दी जा रही है। लेकिन पाइप लाइन का काम पूरा नहीं हो पाने से चार चाय बागान और नेपाली बस्ती इलाकों में पानी की आपूर्ति नहीं हो पा रही है। इस बारे में उच्च अधिकारियों को बताया गया है।

बिन्नागुड़ी ग्राम पंचायत के पंचायत सदस्य रंजीत दे ने कहा कि पाइप लाइन का काम पूरा नहीं हो पाया है। गत दो वर्ष से अस्थाई पाइप लाइन की मदद से उनलोगों को पानी मिल रही है। लेकिन सड़क के ऊपर पाइप होने के कारण वाहन चालकों को काफी समस्या होती है। नेपाली बस्ती के पंचायत सदस्य दीपक विश्वकर्मा का आरोप है कि इलाके के 500 परिवारों को 150 रुपये देकर पानी खरीदकर पीना पड़ता है। उनलोगों की मांग है कि जल्द से जल्द काम समाप्त कर पानी आपूर्ति की जाए।

बिन्नागुड़ी ग्राम पंचायत के प्रधान दीपक श्याम ने कहा कि छह महीने में काम समाप्त करने की बात कही गई थी, लेकिन दो वर्ष बीत जाने के बाद भी काम पूरा नहीं हो पाया है। पाइप लाइन का काम कब शुरू होगा पीएचई विभाग ये भी नहीं बता पा रही है। इसलिये संबंधित विभाग के मंत्री को चिट्ठी देकर जल्द काम पूरा कराने की मांग की गई है।

Edited By: Jagran