पाण्डेश्वर : पाण्डेश्वर कोलियरी में इन दिनों सूदखोरों का आतंक है। आए दिन कोयला श्रमिकों को सूदखोर अपने चंगुल में फंसाकर उसका आर्थिक दोहन करते है और बड़ी चलाकी से श्रमिकों को पीएफ तथा ग्रेच्युटी की राशि हड़पने में भी देर नहीं करते है। मौका मिलने पर कर्मी को स्वैच्छिक अवकाश भी करवा देता है और कर्मी को इसका पता भी नहीं चल पाता है। जब इसका पता कर्मी के परिजनों को चलता है तो वे कोलियरी प्रबंधन से इसकी शिकायत कर उसका स्वैच्छिक अवकाश रद करवाते है। ऐसा ही एक घटना खुट्टाडीह कोलियरी के जेनरल मजदूर सुरेश दास के साथ हुई।

कोलियरी इलाके में काफी दिनों से सूदखोरों का आतंक देखने को मिलता आ रहा है। जो किसी तरह सीधे-सादे एवं कम पढ़े-लिखे मजदूरों को अपने चंगुल में फंसा लेते है एवं सारा जीवन उनके वेतन को डकार जाते है। ऐसे ही जाल में राजू गुप्ता नामक सूदखोर ने कोल कर्मी सुरेश को अपने चंगुल में फंसा लिया था। जहां से कर्मी को मिलने वाले मासिक वेतन को भी डकार जाता था। अधिक लालच में आकर वह कर्मी को को स्वैच्छिक अवकाश दिलवाकर रुपया हड़पना चाहा। कुछ कार्यालय कर्मियों से मिलकर वह सूदखोर स्वैच्छिक अवकाश का कागजात आगे बढ़ा दिया। जिसकी जानकारी मिलने पर श्रमिक की पत्नी व दामाद दिलीप दास ने कोलियरी अधिकारी से मुलाकात की एवं स्वैच्छिक अवकाश नहीं करने की बात कही। जिसकी जानकारी मिलने पर एचएमएस के महामंत्री एसके पांडे ने उच्च न्यायलय में मुकदमा दायर किया। मामले की सुनवाई के बाद कोर्ट ने फिर से कर्मी को ड्यूटी ज्वा‌र्इ्रन करने का आदेश दिया। श्रमिक सुरेश दास ने बताया कि उक्त सूदखोर से कुछ पैसा लिया था, लेकिन पूरा पैसा देने के बाद भी वह हमारा शोषण करता रहा। मेरा पासबुक और एटीएम वहीं रख लिया था, वेतन का रुपया वही उठाया करता था एवं पूछने पर कहता ड्यूटी में उपस्थिति कम होने के कारण वेतन पूरा नहीं आया है। उसके बाद वह स्वैच्छिक अवकाश करवाने का प्रयास किया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस