पाण्डेश्वर : पाण्डेशर क्षेत्र में डॉक्टरों की कमी के चलते स्वास्थ्य सुविधा श्रमिकों को समय पर नहीं मिल रही है। पूरे पाण्डेश्वर क्षेत्र की जिम्मेदारी फिलहाल चार डॉक्टरों पर है। लेकिन दो माह बाद चिकित्सा सुविधा और भी प्रभावित होगी। क्योंकि दो डॉक्टर सेवानिवृत्त हो जाएंगे, ऐसे में मात्र दो डॉक्टर पर ही क्षेत्र की चिकित्सा व्यवस्था रह जाएगी।

पहले पाण्डेश्वर क्षेत्र में आठ डॉक्टर थे। लेकिन काफी समय से डॉक्टरों की नियुक्ति नहीं हुई। पहले जो डॉक्टर थे, उनमें से कुछ सेवानिवृत्त हो गए एवं कुछ यहां से चले गए। ऐसे में पांडेश्वर क्षेत्र में वर्तमान में 4 डॉक्टर पर भी इलाज की व्यवस्था है। पाण्डेश्वर में 7 कोलियरी है, जहां काफी संख्या में मजदूर काम करते हैं। काम के दौरान श्रमिक जख्मी भी होते है, जिन्हें चिकित्सा की जरूरत पड़ती है। लेकिन डॉक्टर की कमी के कारण इलाज व्यवस्था प्रभावित हो रही है। श्रमिक अब इलाज के लिए निजी अस्पताल या केंद्रीय अस्पताल कल्ला की ओर रूख कर रहे हैं। अब डॉ. कामेश्वर ¨सह और डॉ. कन्हैया लाल साहा इसी वर्ष सेवानिवृत्त होनेवाले हैं। तब डॉ. पीएस मन्ना और डॉ. एसके गौरव के ऊपर पूरे क्षेत्र की जिम्मेदारी आ जाएगी। क्षेत्रीय चिकित्सा अधिकारी डॉ. पीएस मन्ना ने कहा कि हमलोगों ने कई बार ईसीएल प्रबंधन को डॉक्टरों की कमी को लेकर पत्र लिखा है, लेकिन अब तक इसका समाधान नहीं हुआ है। आपातकालीन सुविधा के लिए निविदा के तहत क्षेत्रीय प्रबंधन द्वारा एक एंबुलेंस लिया गया है, जो सभी सुविधाओं से लैस है। स्वास्थ्य खराब होने पर मरीज को नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराकर उपचार कराया जाता है।

Posted By: Jagran