मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

कोलकाता, जागरण संवाददाता। उत्तर 24 परगना के कांचरापाड़ा में भाजपा नेता मुकुल राय तथा उनके  विधायक बेटे शुभ्रांशु राय के खिलाफ पैसे लौटाने का पोस्टर कल रात अज्ञात लोगों ने लगाया। इसके साथ ही कांचरापाड़ा नगर पालिका के भाजपा पार्षद के खिलाफ भी पैसे लौटाने का पोस्टर लगाया गया है। इस मामले में भाजपा नेताओं की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली है। 

जानकारी हो कि पिछले दिनों बड़ाबाजार में भ्रष्टाचार और उत्पीड़न के एक मामले में पूछताछ के लिए कोलकाता पुलिस ने भाजपा नेता मुकुल राय को समन भेजा था, दूसरी ओर इसी मामले में बैंकशाल कोर्ट ने सोमवार को उनके खिलाफ गिरफ्तारी वारंट भी जारी कर दिया था। इस मामले को लेकर मुकुल राय दिल्ली हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था।

सूत्रों के अनुसार, बड़ाबाजार में भ्रष्टाचार व उत्पीड़न के मामले में पीड़ित ने शिकायत दर्ज कराई थी। इसके बाद पुलिस ने उक्त मामले में कई लोगों से पूछताछ की थी, जिसमें मुकुल राय का नाम सामने आया था। इसके बाद ही कोलकाता पुलिस ने सीआरपीसी की धारा 160 में नोटिस भेजा है। नोटिस में दिल्ली में ही उनसे पूछताछ किए जाने की बात कही गई है। पुलिस के अनुसार, इससे पहले भी एक अन्य मामले में मुकुल राय को पूछताछ के लिए नोटिस भेजा गया था, जिस पर उन्होंने वरिष्ठ नागरिक होने का हवाला देकर पूछताछ के लिए कोलकाता पहुंचने में असमर्थता जताई थी।  

वहीं, इसी मामले में बैंकशाल कोर्ट ने मुकुल के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी कर दिया और बड़ाबाजार थाने की पुलिस को एक माह में रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया था। इस मामले की अगली सुनवाई 29 अगस्त को होगी। भाजपा नेता पर धोखाधड़ी व भ्रष्टाचार संबंधित मामले दर्ज है। इस बाबत कई बार बुलाए जाने के बाद भी वे हाजिर नहीं हुए। सोमवार को इस मामले में उन्हें नोटिस दी गई थी लेकिन वे हाजिर नहीं हुए। सूत्रों के मुताबिक, जनवरी में बड़ाबाजार थाने की पुलिस ने कल्याण राय बर्मन नामक एक व्यक्ति को 80 लाख रुपये नगदी के साथ गिरफ्तार किया था।

अदालत में पुलिस की तरफ से कहा गया था कि जांच में यह पता चला है कि हवाला के जरिए ये रुपये दिल्ली भेजा जा रहा था। इस मामले में भाजपा नेता मुकुल राय का नाम भी सामने आया है। इसके बाद कई बार पूछताछ के लिए मुकुल राय को नोटिस भेजा गया था, लेकिन उनका जवाब नहीं मिला। मामले की सुनवाई के दौरान बड़ाबाजार थाने की पुलिस ने बैंकशाल कोर्ट में कहा कि मुकुल जांच में मदद करने के लिए नोटिस भेजने के बावजूद थाना नहीं आ रहे हैं। इसके बाद अदालत ने मुकुल राय के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी कर एक महीने के अंदर इसकी रिपोर्ट सौंपने का निर्देश पुलिस को दिया है।

उधर, इस बाबत मुकुल राय का कहना है कि पहले भी मुझे गवाह के हिसाब से नोटिस दिया गया था। लेकिन मैंने पुलिस को दिल्ली आने की बात कही थी। उन्होंने बताया कि कोलकाता पुलिस ने इससे पहले बैंकशाल कोर्ट में मेरे खिलाफ एक मामला किया था। दोनों चीजें एक साथ कैसे हो सकती हैं? इसलिए मैंने दिल्ली हाईकोर्ट में आवेदन किया है। उन्होंने इस मामले में ममता सरकार पर द्वेष भावना से काम करने का आरोप लगाया है।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप