जागरण संवाददाता,कर्सियाग:

कोरोना संक्त्रमण के फैलते महामारी को ध्यान में रखकर लोगों की सुरक्षा के लिहाज़ से कर्सियाग नगरपालिका व कर्सियाग हाकर्स यूनियन ने बिहीबारे हाट को विगत 29 अप्रैल - 2021 के दिन से बंद कराया था। परंतु पुन: कर्सियाग में यह हाट विगत 18 नवंबर -2021 के दिन से लगना शुरू हो गया है। विगत गुरूवार बिहीबारे हाट में दुकान लगाने वाले हाकर्स काफी तादाद में दिखे। हाट में खरीददारी करनेवाले लोगों की चहल -पहल भी काफी दिखी।परंतु आज 25 नवंबर की गुरूवार कड़ाके के ठंड बीच बिहीबारे हाट का दिखा सुनसान नजारा।हाट में खरीददारी करनेवाले लोगों की कमी दिखी।

गौरतलब है,गुरूवार साप्ताहिक बंदी के दिन कर्सियाग बाजार क्षेत्र के बंद दुकानों के सामने अथवा बरण्डा में लगनेवाली हाट बिहीबारे हाट के नाम से प्रचलित है। इस हाट में दुकान लगाने के लिए कर्सियाग बाजार क्षेत्र सहित सिलीगुड़ी के विविध इलाकों से दुकानदार आते हैं। इस हाट में सभी प्रकार के आवश्यक चीजें आसानी से मिल जाने के कारण सुदूरवर्ती इलाकों से भी काफी तादाद में लोग यहा खरीददारी करने आते हैं।

जानकारी अनुसार इस हाट में मार्केटिंग करने के लिए आनेवाले लोगों की भीड़ तकरीबन दोपहर दो बजे तक अधिक रहता है।उसके बाद धीरे -धीरे भीड़ कम होने लगती है।

---------

------------

-------------

------------

--------------

जागरण संवाददाता,कर्सियाग:

कोरोना संक्त्रमण के फैलते महामारी को ध्यान में रखकर लोगों की सुरक्षा के लिहाज़ से कर्सियाग नगरपालिका व कर्सियाग हाकर्स यूनियन ने बिहीबारे हाट को विगत 29 अप्रैल - 2021 के दिन से बंद कराया था। परंतु पुन: कर्सियाग में यह हाट विगत 18 नवंबर -2021 के दिन से लगना शुरू हो गया है।विगत

गुरूवार बिहीबारे हाट में दुकान लगाने वाले हाकर्स काफी तादाद में दिखे। हाट में खरीददारी करनेवाले लोगों की चहल -पहल भी काफी दिखी।परंतु आज 25 नवंबर की गुरूवार कड़ाके के ठंड बीच बिहीबारे हाट का दिखा सुनसान नजारा।हाट में खरीददारी करनेवाले लोगों की कमी दिखी।

गौरतलब है,

गुरूवार साप्ताहिक बंदी के दिन कर्सियाग बाजार क्षेत्र के बंद दुकानों के सामने अथवा बरण्डा में लगनेवाली हाट बिहीबारे हाट के नाम से प्रचलित है। इस हाट में दुकान लगाने के लिए कर्सियाग बाजार क्षेत्र सहित सिलीगुड़ी के विविध इलाकों से दुकानदार आते हैं। इस हाट में सभी प्रकार के आवश्यक चीजें आसानी से मिल जाने के कारण सुदूरवर्ती इलाकों से भी काफी तादाद में लोग यहा खरीददारी करने आते हैं।

जानकारी अनुसार इस हाट में मार्केटिंग करने के लिए आनेवाले लोगों की भीड़ तकरीबन दोपहर दो बजे तक अधिक रहता है।उसके बाद धीरे -धीरे भीड़ कम होने लगती है।

Edited By: Jagran