जागरण संवाददाता, सिलीगुड़ी: स्टूडेंट फेडरेशन ऑफ इंडिया एसएफआई के सिलीगुड़ी यूनिट द्वारा स्कूल, कॉलेज व यूनिवर्सिटी खोलने की मांग को लेकर मंगलवार को सुभाषपल्ली स्थित नेताजी मोड़ के समक्ष धरना दिया गया। एसएफआई नेताओं का कहना था कि अब स्कूल, कॉलेज व यूनिवर्सिटी को बंद करके नहीं रखा जाना चाहिए। इसके चलते लाखों विद्यार्थियों का भविष्य में अधर में लटक गया है। विद्यार्थियों के भविष्य के साथ खिलवाड़ बंद होना चाहिए तथा राज्य सरकार को इस बारे में गंभीरता से सोचना चाहिए। उनका कहना था कि शॉपिंग मॉल से लेकर बाजार सबकुछ खुल चुका है, लेकिन स्कूलों को बंद करके रखा जा रहा है। यह युवा समाज के हित में नहीं है। वहीं कोलकाता में एसएफआई राज्य कमेटी के नेताओं के साथ हुए दु‌र्व्यहार की घटना के लिए पुलिस प्रशासन की निंदा की गई। एसएफआई नेताओं की ओर से कहा गया है कि राज्य के शिक्षा मंत्री से मिलने के लिए एसएफआई राज्य कमेटी का प्रतिनिधि दल कोलकाता के करूणामयी पहुंचा हुआ था। इस दौरान पुलिस की ओर से एसएफआई के राज्य कमेटी के नेताओं के साथ बुरा बर्ताव किया गया। उन्हें वहां से हटाने के लिए बल प्रयोग किया गया। यहां तक की छात्राओं को वहां से हटाने के लिए महिला पुलिस तक की व्यवस्था नहीं की गई थी। यह काफी निंदनीय है। इस घटना की वे जोरदार निंदा करते हैं। उन्होंने कहा कि स्कूल व कॉलेज खोलने की मांग करना क्या गलत बात है। जहां नौजवानों का भविष्य खराब हो रहा है, वहां इस तरह के सवाल उठाना कैसे गलत हो सकता है। राज्य व केंद्र सरकार को कोविड नियमों की शर्त पर जल्द से जल्द स्कूल व कॉलेज खोलने का आदेश देना चाहिए।

Edited By: Jagran