-हर पल ट्रेन हादसे के शिकार लोगों की मदद की गई,घायलों की चिकित्सा व्यवस्था पर विशेष जोर रहा

जागरण संवाददाता,सिलीगुड़ी:जलपाईगुड़ी जिले के मयनागुड़ी में 13 जनवरी, 2022 को भीषण ट्रेन दुर्घटना हुई। बीकानेर-गुवाहाटी एक्सप्रेस के कई डिब्बे पटरी से उतरे और कई मारे गए। कई घायल हुए।

इस भीषण हादसे की खबर मिलते ही राज्य पुलिस, बीएसएफ, एनडीआरएफ और रेलवे पुलिस के साथ साथ मयनागुड़ी खंड के स्थानीय स्वयंसेवक भी बचाव के लिए दौड़ पड़े। स्थानीय स्वयंसेवक घायलों को ट्रेन से निकालने, उन्हें एम्बुलेंस द्वारा अस्पताल पहुंचाने और चाय व गर्म पानी उपलब्ध कराने में लगे रहे। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद, विश्व हिंदू परिषद, सेवा भारती तथा भारतीय जनता पार्टी के स्थानीय कार्यकर्ता इस काम में आगे आए।

बताया गया है कि हादसे के दिन रात-भर तथा अगले दिन 14 जनवरी को पानी, चाय, गर्म पानी और सूखा भोजन प्रदान कर सेवा कार्य जारी रखा गया। वहीं, पैनी नजर के चलते लूट/चोरी की कोई घटना नहीं हुई। सेवा व सुरक्षा के साथ-साथ स्वयंसेवकों ने स्वच्छता की तरफ भी ध्यान रखा। संघ के अखिल भारतीय सह-प्रचार प्रमुख श्री अद्वैतचरण दत्त ने स्वयं स्वच्छता कार्य में भाग लेकर बाकी कार्यकर्ताओं को भी प्रोत्साहित किया। इसके अलावा जलपाईगुड़ी तथा सिलीगुड़ी नगर के स्वयंसेवक व कार्यकर्ता गण सक्रिय हो गए। हेल्पलाइन नंबर प्रणाली की व्यवस्था करना, रक्तदान प्रणाली, एनजेपी स्टेशन और बागडोगरा हवाई अड्डे पर सहायता केंद्र बनाना, जलपाईगुड़ी सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल और सिलीगुड़ी में उत्तर बंगाल मेडिकल कॉलेज में घायलों को ले जाना आदि सबके लिए योजना बनाई गई और उसके अनुसार ही कार्य को अंजाम दिया गया।

जलपाईगुड़ी अस्पताल में रक्तदान की व्यवस्था की गयी। घायलों से बात कर उनके घरों में संपर्क करके घरवालों को सूचना दी गई। वहा सूखा भोजन की व्यवस्था की गयी।

सिलीगुड़ी के कार्यकर्ताओं ने रात भर जगकर उत्तर बंगाल मेडिकल कॉलेज में सेवाकायरें में सहायता किया। जलपाईगुड़ी अस्पताल से रेफर किए गए मरीजों को यहा भर्ती कराने में सहायता प्रदान की गई।

Edited By: Jagran