-रिक्शा चालक बने यात्री, समाजसेवी युवाओं ने चलाया रिक्शा

-पुलिस वाले समाजसेवी बापन दास ने समाज को दिया संदेश जागरण संवाददाता, सिलीगुड़ी : रथ पूजा के उपलक्ष्य में शुक्रवार को यहां, एक पुलिस वाले समाजसेवी बापन दास द्वारा युवाओं व विद्यार्थियों के सहयोग से रिक्शा वालों सम्मान दिया गया। इस दिन सुबह-सुबह अपने संगी-साथी युवाओं व विद्यार्थियों संग उन्होंने शहर के चिल्ड्रेन पार्क के निकट जा कर रिक्शा वालों को नाश्ता कराया व जूस पिलाया। इसके साथ ही उन्हें कुछ दिनों का राशन भी दिया, जिसमें चावल, आटा, सब्जी, अंडा व फल शामिल रहा। इतना ही नहीं, बापन दास व उनके साथियों ने खुद रिक्शा चला कर रिक्शा चालकों को घुमाया। कहा कि, इस दिन रिक्शा रथ, रिक्शा चालक उसके यात्री व वे लोग उनके सारथी हैं। जो हमेशा सबके रथवान बनते हैं, उनका भी तो एक दिन रथवान बना जाए। इस सम्मान के लिए रिक्शा वालों ने उन लोगों का हार्दिक आभार जताया। उन रिक्शा वालों ने कहा कि यह उन लोगों के जीवन का बड़ा खास अनुभव रहा कि उन लोगों को रिक्शा पर बिठा कर किसी ने घुमाया व ऐसा सम्मान दिया।

इस बारे में बापन दास ने कहा कि गत वर्ष कोरोना महामारी के चलते हम लोग भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा नहीं खींच सके थे। तब ही हम लोगों ने रिक्शा चालकों को रिक्शा पर बिठा कर रिक्शा खींचने की संकल्पना की थी। आखिर, जो रिक्शा वाले समाज को बड़ी सेवा देते हैं, उनकी सेवा क्यों न हो? उसी वर्ष रथ पूजा के उपलक्ष्य में हम लोगों ने यह अभिनव पहल की थी, जो इस वर्ष भी जारी रही। हम लोगों ने रिक्शा चालकों की सेवा करने को बड़ा नेक कार्य समझा। इसीलिए यह कार्य अंजाम दिया। यह कुछ नहीं बस उनको थोड़ी खुशी देने की कोशिश है। इसके साथ ही समाज को यह संदेश देना भी उद्देश्य है कि रिक्शा वालों को ह्ेय दृष्टि से नहीं बल्कि सम्मान की दृष्टि से देखें व सम्मान दें।

Edited By: Jagran