जागरण संवाददाता, सिलीगुड़ी : सात दिन व्यापी श्रीमद्भागवत महापुराण तथा अष्ट महालक्ष्मी महायज्ञ दार्जिलिंग मोड़ स्थित नवग्रह मंदिर परिसर में जारी है। श्रीमद भागवत कथा में पंडित प्रमोद सुधाकर महाराज ने श्रद्धालुओं को संबोधित करते हुए कहा कि हमेशा प्रभु का नाम जपते रहिए। जिस तरह से हम अपने प्रिय को याद करते हैं उसी प्रकार हमेशा उसे याद करते रहिए। उसकी याद में रहने से दुख, कष्ट कोसों दूर भाग जाएंगे। इसलिए हमेशा उसका नाम लेते रहें। ऐसा नहीं है कि आप जोर-जोर से स्मरण करें। बल्कि आप मन में भी प्रभु के नाम का स्मरण कर सकते हैं। उसका नाम लेते रहेंगे तो जीवन की नैया स्वत: ही पार हो जाएगी। जीवन जीने के लिए उस परमात्मा का नाम लेना आवश्यक है। श्रीमद्भागवत कथा का हमारे जीवन में विशेष महत्व है। कथा को सुनने से जीवन में शांति का वास होता है। इसलिए कथा का लाभ अवश्य उठाना चाहिए।

कथा सुनने के लिए दूर-दूर से श्रद्धालु आए हुए हैं। उनके रहने और भोजन की व्यवस्था मंदिर परिसर की ओर से की गई हैं। प्रतिदिन कथा सुनने के लिए सैकड़ों की तादाद में भक्तजन पहुंच रहे हैं। श्रद्धालुओं को किसी प्रकार का कष्ट ना हो इसकी मंदिर परिसर में विशेष व्यवस्था की गई है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस