सिलीगुड़ी,  अशोक झा। भारत में पशु तस्करी का धंधा सालाना डेढ़ लाख करोड़ रुपये से भी अधिक का है। गाय तस्करी के लिए टॉप पांच राज्यों में बंगाल का भी नाम शामिल है। खास कर उत्तर बंगाल के रास्ते मवेशी तस्करी धड़ल्ले से हो रही है। लोग यह प्रश्न करने लगे हैं कि आखिर पशुओं की तस्करी बांग्लादेश कैसे हो रही है।

इसका जबाव ना तो राज्य सरकार के पास है और ना ही केंद्र सरकार के पास। हां इतना जरुर है कि दोनों सरकार व प्रशासन के लोग इतना जरूर कहते हैं कि तस्करी पर अंकुश लगाने के लिए सभी प्रकार के प्रयास किए जा रहे है। चौंकाने वाली बात यह है कि प्रतिवर्ष बांग्लादेश सीमांत से 10 लाख पशुओं की तस्करी होती है। बांग्लादेश सीमा सुरक्षा बल की ओर से मवेशी तस्करी पर अंकुश लगाने के लिए की गयी कार्रवाई पर नजर डाले तो 2014 में 1,09, 999, वर्ष 2015 में 1,53,602, वर्ष 2016 में 1,46, 967, 2017 में 2018 में 1,55,200 तथा 2019 में एक लाख से अधिक मवेशी जब्त किए गए हैं।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार उत्तर बंगाल का भारत-नेपाल सीमा और बांग्लादेश सीमांत पशु तस्करों के लिए स्वर्ग बना हुआ है। नेपाल और बिहार से पशुओं को खरीदकर तस्करों के हाथों बांग्लादेश भेज रहे हैं। सूत्रों के अनुसार तस्कर प्रति पशु 10 से 18 हजार रुपये का भारी मुनाफा कमा रहे हैं। आरोप है कि सुरक्षा एजेंसियों की सुस्ती से यह अवैध कारोबार रूकने की जगह बढ़ता ही जा रहा है। पशु तस्करों के लिए उत्तर बंगाल का यह क्षेत्र सबसे सुरक्षित ठिकाना माना जाता है। मवेशी तस्करी के लिए सड़क मार्ग के साथ तस्कर नदियों का सहारा भी लेते है। इसके पीछे अंतरराज्यीय व अंतरराष्ट्रीय तस्करों का एक बड़ा गिरोह काम करता है।

इसको रोकने के लिए भारतीय जनता युवा मोर्चा, बजरंग दल व भारतीय जनता पार्टी की ओर से सीमा सुरक्षा बल के महानिरीक्षक को मांगपत्र सौंपा गया था। क्या है तस्करी का तरीका सूत्रों के अनुसार नेपाल, उत्तर प्रदेश तथा बिहार के पशु बाजारों से तस्कर पशुओं को खरीदते हैं। खास कर दुधारू पशुओं को खरीदा जाता है। तस्कर पिकअप गाड़ियों में भरकर पुर्णियां, पांजीपाड़ा, नक्सलबाड़ी, खोरीबाड़ी आदि सीमावर्ती क्षेत्र में उतार देते हैं। उसके बाद सुरक्षा एजेंसियों व स्थानीय पुलिस की खामोशी का फायदा उठाकर झुंड के झुंड पशुओं को पगडंडी रास्तों से चराते हुए धीरे-धीरे बांग्लादेश की सीमा में पहुंचा देते हैं। इसके लिए कैरियर का उपयोग किया जाता है। कैरियर को एक जोड़ी मवेशी के लिए चार सौ रुपये मिलते हैं। बांग्लादेश सीमावर्ती क्षेत्र में लगने वाले पशु बाजार में इन पशुओं को मुंहमागे दामों पर बेचकर पशु तस्कर काफी मुनाफा कमाते हैं।

बताया जाता है कि वहा पहुंचने के बाद तस्कर गिरोहों से जुड़े अन्य लोग दुधारू भैसों को दूध आदि के लिए कुछ दिनों तक अपने पास रखते हैं, जबकि बूढ़ी भैसों को मास आदि के लिए बांग्लादेश के रास्ते खाड़ी देश भेजने वाले तस्करों के हवाले कर देते हैं। पशु तस्करी पर लगाम लगाने की मांग स्थानीय लोगों का कहना है कि समय रहते यदि पशु तस्करी पर लगाम नहीं लगाया गया तो इस इलाके में देशी गायों की तरह दुधारू भैंस भी खोजने पर भी नहीं मिलेंगी।

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने हाल में कहा है कि सभी राज्यों को पशु तस्करी रोकने के लिए कदम उठाने को कहा गया है। बांग्लादेश सीमा से मवेशी तस्करी ना हो इसके लिए सीमा पर तैनात बीएसएफ अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिया गया है। पशु तस्करों पर नकेल कसने के लिए पुलिस पूरी तरह मुस्तैद है। यदि कोई भी पशु तस्करी के कार्य में संलिप्त पाया गया तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। आनंद कुमार, एडीजी सह आईजी, उत्तर बंगाल। 

Posted By: Preeti jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस