जागरण संवाददाता, सिलीगुड़ी : बच्चों में बुखार तथा सास लेने संबंधी समस्या जस की तस बनी हुई है।

उत्तर बंगाल मेडिकल कॉलेज व अस्पताल (एनबीएमसीएच) में रविवार को पिछले 24 घंटे में पांच बच्चों की मौत होने का मामला सामने आया है। हालांकि इसमें राहत की बात है कि रेस्पिरेट्री एक्यूट इंटेंसिव से पीड़ित किसी बच्चे की मौत नहीं हुई है। एनबीएमसीएच के आधिकारिक सूत्रों द्वारा मिली जानकारी के अनुसार जिस बच्चे की मौत हुई है, उसका जन्म के समय वजन काफी कम था। इस तरह से 17 दिनों के अंदर 60 बच्चों की मौत हो चुकी है।

एनबीएमसीएच के आधिकारिक सूत्रों द्वारा मिली जानकारी के अनुसार पिछले 24 घंटे के अंदर एनबीएमसीएच में बुखार, एक्यूट रेस्पिरेट्री इनफेक्शन समेत अन्य बीमारियों से पीड़ित 40 बच्चे भर्ती हुए हैं। इनमें नौ बच्चे एक्यूट रेस्पिरेट्री इनफेक्शन से पीड़ित हैं। मिली जानकारी के अनुसार फिलहाल मेडिकल अस्पताल में 38 बच्चे बुखार व सांस लेने में दिक्कत होने की समस्या से भर्ती हैं।

बताया गया कि बच्चों की चिकित्सा व्यवस्था में किसी तरह की कोई कमी नहीं होने दी जा रही है। उन्होंने कहा कि विशेषज्ञ डॉक्टरों द्वारा हर समय बच्चों के स्वास्थ्य पर कड़ी निगरानी रखी जा रही है।

वहीं दूसरी ओर सिलीगुड़ी जिला अस्पताल में बुखार तथा सांस लेने में दिक्कत होने की वजह से बच्चों के भर्ती होने का सिलसिला जारी है। सिलीगुड़ी जिला अस्पताल के आधिकारिक सूत्रों द्वारा मिली जानकारी के अनुसार फिलहाल सिलीगुड़ी जिला अस्पताल में 70 से ज्यादा बच्चे इस समस्या को लेकर भर्ती हैं, तीस से ज्यादा बच्चे बुखार तथा सांस लेने में दिक्कत से जूझ रहे थे।

Edited By: Jagran