जागरण संवाददाता, सिलीगुड़ी : प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी रतनलाल ब्राह्मण स्मृति व्याख्यान का आयोजन 23 अक्टूबर को दीनबंधु मंच पर आयोजित होगा। इसका आयोजन रतनलाल ब्राह्मण मेमोरियल ट्रस्ट द्वारा आयोजित किया जा रहा है। इसमें भाग लेने माकपा के महासचिव सीताराम येचुरी इसके मुख्य वक्ता होंगे। इसकी जानकारी देते हुए रविवार को मेमोमेरियल ट्रस्ट के सचिव माकपा नेता जीवेश सरकार ने पार्टी कार्यालय में पत्रकारों को दी। उनके साथ मेयर सह विधायक अशोक नारायण भट्टाचार्य व मेयर परिषद सदस्य मुंशी नुरूल इस्लाम उपस्थित थे। उन्होंने बताया कि यहां सीताराम येचुरी नवजागरण, स्वतंत्रता आंदोलन, गण संग्राम और कम्युनिस्ट पार्टी की स्थापना के संबंध में विस्तार से बताएंगे। सरकार ने बताया कि माकपा अपना 100 स्थापना दिवस मना रहा है। ऐसे में उसने इतने दिनों में क्या खोया और क्या पाया इसकी जानकारी भी उनके द्वारा दी जाएगी।

विजया सम्मेलन के नाम पर मुख्यमंत्री की राजनीतिक सभा : मेयर

मेयर सह विधायक अशोक नारायण भट्टाचार्य ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी लोकसभा चुनाव के बाद पहली बार उत्तर बंगाल दौरे पर आ रही है। वे विजया सम्मेलन के नाम पर राजनीति करने में लगी है। सोमवार को पुलिस कमिश्नरेट प्रारंभ में उनके द्वारा विजया सम्मेलन को संबोधित किया जाएगा। कार्यक्रम में लोगों की संख्या बढ़ाने के लिए विभिन्न क्लबों और जनप्रतिनिधियों को आमंत्रित किया गया है। इसके पहले भी मुख्यमंत्री इस प्रकार के कार्यक्रमों के माध्यम से राजनीति करती आयी है। मेयर से जब पूछा गया कि क्या आपका कहना है कि यह एक धर्म विशेष के लोगों को प्रभावित करने का प्रयास है। इसके जबाव में उन्होंने कहा कि यह आम लोग जानते है कि भाजपा और टीएमसी एक ही पथ पर आगे बढ़ने वाली पार्टी है। जब से राज्य में टीएमसी ने सत्ता संभाला है तब से यहां भाजपा की ताकत बढ़ी है। दोनों ही दो संप्रदायों के बीच अपनी पैठ बढ़ाने में लगे है। हालांकि मेयर सह विधायक के इस आरोप की निंदा करते हुए टीएमसी जिलाध्यक्ष रंजन सरकार उर्फ राणा ने कहा कि मेयर अब कुछ सोचने की स्थिति में नहीं है। उसके बयान ही उनकी सोच को दर्शाता है।

वाममोर्चा की ओर से दिया गया धरना

केंद्र व राज्य सरकार के खिलाफ वाममोर्चा की ओर से रविवार को यूनाइटेड बैंक के निकट धरना दिया गया। धरना कार्यक्रम को मेयर सह विधायक, समन पाठक और जीवेश सरकार ने संबोधित किया। वक्ताओं ने बताया कि केंद्र व राज्य सरकार दोनों ही राज्य में सांप्रदायिकता को बढ़ावा दे रहे है। केंद्र के नीतियों के कारण जहां लगातार एक दूसरे को लोग संदेश की नजर से देख रहे है वहीं राज्य में गणतंत्र का हर दिन हनन हो रहा है। इसको लेकर पिछले दिनों ही कांग्रेस के एक नेता को जिस प्रकार पुलिस उनके घर से उठाकर ले गयी वह किसी से छुपा नहीं है। आज राज्य की पुलिस कैडर के रूप में काम कर रही है। इसको लेकर भी सभी लोग जान गये है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप