मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

-कुछ और तस्करों के भागने की आशंका

-आस पास के इलाकों में सर्च अभियान जारी

- आठ मवेशी जब्त,बांग्लादेश तस्करी की कोशिश नाकाम

जागरण संवाददाता, सिलीगुड़ी : सुरक्षा एजेंसियों के अलर्ट के बाद भारत-बांग्लादेश सीमा पर सीमा सुरक्षा बल के जवानों द्वारा लगातार पैनी नजर रखी जा रही है। फांसीदेवा थाना के मुढ़ीखावा भारत-बांग्लादेश सीमांत पर बीएसफ ने मवेशी तस्करी की कोशिश को नाकाम कर दिया। शुक्रवार की भोर भारतीय सीमा से बांग्लादेश मवेशी तस्करी हो रही थी। इस दौरान बीएसएफ की कार्यवाई में एक तस्कर घायल हुआ है। उसकी पहचान मोहम्मद अख्तर के रूप में की गई है। उसके साथ और कोई तस्कर था या नहीं यह पता नहीं चल पाया है। इस घटना के बाद बीएसएफ की ओर से आसपास के गांव में सर्च ऑपरेशन जारी है। सीमा सुरक्षा बल के जवानों द्वारा चलाए गये रबर बुलेट से वह तस्कर गंभीर रुप से घायल हो गया है। दो गोली उसके गर्दन के उपरी भाग और आंख के निकट लगी है। घायलावस्था में उसे नार्थ बंगाल मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उसके पास से तस्करी के आठ मवेशी जब्त किए गए हैं। घायल मवेशी तस्कर का नाम मोहम्मद अख्तर है। उसके खिलाफ फांसीदेवा थाना में धारा 186,506,379 और 411 के तहत कार्रवाई करते हुए जांच प्रारंभ कर दी गयी है। दार्जिलिंग जिला ग्रामीण डीएसपी अंचित गुप्त ने बताया कि जो जानकारी बीएसएफ से पुलिस को मिली है उसके अनुसार बीएसएफ की टीम सीमा पर गश्त कर रही थी। तभी अंधरे में कुछ हरकत नजर आई। बीएसएफ की टीम ने उसे रुकने के लिए कहा और ललकारा। बीएसएफ जवानों की आवाज सुनकर मवेशी लेकर पथराव करते हुए तस्कर सीमा पार जाने की कोशिश करने लगे। बीएसएफ ने बचाव के लिए तुरंत बुलेट का प्रयोग किया। वहां एक तस्कर घायलावस्था में पाया गया। घटनास्थल से ही आठ मवेशियों को बरामद किया गया। मेडिकल कॉलेज में उसकी गहन चिकित्सा चल रही है। उससे पुलिस को और भी तस्करों के नामों का पता चल पाएगा। पुलिस और बीएसएफ अधिकारियों का कहना है कि मवेशी तस्कर जिस प्रकार इन दिनों हथियारों का इस्तेमाल करने लगे हैं, उसे देखते हुए बीएसएफ को सीमा पर सतर्कता के साथ कार्रवाई करनी पड़ रही है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप