जागरण संवाददाता, कोलकाता। राज्य की सत्ता संभालने के पहले दिन से सिर पर कर्ज का भारी बोझ है। इसके बावजूद हमने विकास का संकल्प लिया है। शनिवार को संवाददाताओं से बातचीत में मुख्यमंत्री ने अपनी सरकार के कामकाज का हिसाब-किताब सामने रखा। उन्होंने बताया कि पिछले आठ साल में उन्होंने क्या-क्या कदम उठाए हैं।

उन्होंने बताया कि 2010-11 से 2018-19 तक राज्य का बजट 11 गुना बढ़कर 23,727 करोड़ रुपये हो गया है। राज्य में कर्ज अदायगी भी तीन गुना बढ़ी है। 2010-11 में जो 21 हजार करोड़ था, वह 2018-19 में बढ़कर 65, 341 करोड़ हो गया है। इसके साथ जीडीपी में भी ढाई गुना बढ़ोतरी हुई है। 2010-11 में 4.74 लाख करोड़ की अर्थव्यवस्था 2018-19 में बढ़कर 11.55 लाख करोड़ की हो गई है। विभिन्न परियोजनाओं का खर्च भी पांच गुना बढ़ा है। 2010-11 साल में विभिन्न परियोजनाओं पर 11,837 करोड़ रुपये खर्च हुए, जो 2018-19 में 71113 करोड़ हो गए।

राज्य में पूजा आयोजन से अभिभूत

राज्य में शांतिपूर्ण दुर्गापूजा आयोजन से मुख्यमंत्री अभिभूत हैं। उन्होंने कहा कि इस साल पूजा बहुत बढि़या से बीती। प्रशासन के विभिन्न अंगों ने आयोजन के लिए उम्दा काम किया। पूजा कार्निवल को सीएम ने दुनिया में सर्वश्रेष्ठ आयोजन की संज्ञा दी। उन्होंने कहा कि राज्य की कन्याश्री, सबूज साथी व उत्कर्ष बांग्ला जैसी परियोजनाएं विश्व स्तर पर सम्मानित हुई हैं। डेनमार्क में भी कोलकाता नगर निगम को पुरस्कृत किया गया। बंगाल को आगे ले जाना हमारा एकमात्र लक्ष्य है।

इस मौके पर मुख्यमंत्री ने नोबेल पुरस्कार विजेता अभिजीत मुखर्जी को शुभकामना देते हुए कहा कि अभिजीत की उपलब्धि पर पूरे बंगाल को गर्व है। साथ ही, बीसीसीआइ का अध्यक्ष बनने पर सौरव गांगुली को शुभकामना देते हुए उन्होंने उन्हें बंगाल का गौरव करार दिया। भाजपा पर कटाक्ष करते हुए उन्होंने कहा कि भाजपा को अच्छी चीजों को ग्रहण करना सीखना चाहिए।

बंगाल की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Sachin Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप