दार्जिलिंग, संवाद सूत्र। जलपाईगुड़ी डिविजनल कमिश्‍नर एआर वर्धन  ने आज 24 मई को जीटीए सभा चुनाव (Gorkhaland Territorial Administration Sabha Election-2022) की घोषणा की । जिलापाल कार्यालय में ऑल पॉलिटिकल पार्टी बैठक बुलाई थी, जिसमें सात राजनीतिक दलों ने भाग लिया। बैठक के बाद कमिश्‍नर एआर वर्धन ने मीडिया से बातचीत में कहा कि जीटीए सभा का चुनाव 26 जून को होगा और 29 जून को मतगणना होगी। इसकी अधिसूचना 27 मई को  जारी कर दी जाएगी। उसी दिन से नामांकन प्रक्रिया भी शुरू हो जाएगा। नामांकन चार दिन चलेगा और  दो दिन नामांकन वापस लेने के लिए समय दिया जाएगा। उन्होंने आगे कहा की आज की बैठक में दो या तीन राजनीतिक दलों को छोड़कर सभी पार्टी ने भाग लिया । इस बैठक में  दार्जिलिंग और कालिम्‍पोंग के जिलापाल और पुलिस अधीक्षक , एसडीओ, बीडीओ और संबधित विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।

जिलापाल कार्यालय में ऑल पार्टी  बैठक बुलाई गई थी, जिसमें सात राजनीतिक दलों ने भाग लिया। इनमें गोरखा जनमुक्ति मोर्चा, हिल तृणमूल कांग्रेस ,गोरखा राष्ट्रीय कांग्रेस जन आंदोलन पार्टी, हाम्रो पार्टी, भारतीय गोरखा प्रजातांत्रिक मोर्चा, सी पी आई एम, शामिल हुए। परंतु सीपीआरएम ने जिलापाल को एक पत्र सौंपा और बैठक में भाग नही लिया। उन्होंने अपने पार्टी की तरफ से चुनाव का बहिष्कार करने की बात कहीं। कहा कि जीटीए चुनाव अभी नहीं होना चाहिए। केंद्र सरकार से परमानेंट पॉलिटिकल सॉल्‍यूशन (पीपीएस) यानी स्‍थायी राजनीतिक समाधान देने की बातचीत चल रही है। हमे आशा है की केंद्र सरकार पीपीएस अवश्य देगी।

बैठक के बाद गोरखा जनमुक्ति मोर्चा के प्रवक्ता अनिल लोपसंग ने पत्रकारों से बातचीत में कहा की हमारी पार्टी जीटीए चुनाव में नही जायेगी। पिछले नौ दिनों से युवा मोर्चा के सदस्य अनशन में बैठे हैं। सरकार की तरफ से कोई सकारात्मक पहल नहीं हुई है। 2011 में जो जीटीए को कई विभाग देने की बात थी, वह नही दिया गया।   सरकार ने हमे धोखा दिया ।  जो पार्टी जीटीए चुनाव नही चाहती, उन्हे आगे आकर जीटीए चुनाव का विरोध करना चाहिए।

Edited By: Sumita Jaiswal