-कुछ ही दिनों में 15 करोड़ से अधिक का नुकसान

-पहाड़ और डुवार्स में बांग्ला फिल्मों की शूटिंग रद

-टॉलीवुड स्टार अंकुश और शुभश्री ने टाली यात्रा

-क्रिसमस और नववर्ष से पहले अधिकांश बुकिंग कैंसिल जागरण संवाददाता, सिलीगुड़ी : सिटीजन अमेंडमेंट एक्ट (सीएए) व नेशनल रेजिस्टर ऑफ सिटीजन (एनआरसी) के विरोध का सिलसिला पश्चिम बंगाल में थमने का नाम नहीं ले रहा है।

इस विरोध प्रदर्शन का असर रेल सेवा से लेकर कारोबार तक पड़ा है। खासकर रेल सेवा तो भारी असर पड़ा है। जाहिर है उत्तर बंगाल के कारोबार में भी इस आंदोलन का असर पड़ा है। खासकर पर्यटन कारोबार पर संकट गहराया है। पर्यटन से जुड़े व्यापारियों को भारी नुकसान का सामना करना पड़ा है। पर्यटकों के आगमन में कमी हो रही है। आलम यह है कि पहाड़ व डुआर्स इलाके में पूर्व निर्धारित फिल्मों की शूटिंग रोक दी गई है। इस इलाके के कलाकारों को भी नुकसान उठाना पड़ा है।

बुधवार को ही टॉलीवुड के दो स्टार अंकुश हाजरा व शुभश्री बनर्जी को शूटिंग के लिए दार्जिलिंग पहुंचना था। इनके साथ फिल्म निर्माता,निर्देशक के साथ ही शूटिंग की पूरी टीम को दार्जिलिंग पहुंचना था। बुधवार 28 दिसंबर तक पहाड़ व डुआर्स के विभिन्न इलाकों में मुख्य किरदारों के साथ फिल्म की शूटिंग होती। करीब एक महीना पहले ही फिल्म के निर्देशक व उनकी टीम के सदस्य पहाड़ व डुआर्स का मुआयना कर लोकेशन का चयन कर गए थे। लेकिन सीएए व एनआरसी को लेकर हिसा और आंदोलन की वजह से शूटिंग की पूरी योजना पर पानी फिर गया। इस फिल्म के कोर्डिनेटर बबलू बंदोपाध्याय ने बताया कि बुधवार को अभिनेता, अभिनेत्री के साथ शूटिंग टीम को सिलीगुड़ी होकर दार्जिलिंग पहुंचना था। गुरूवार से शूटिंग शुरू होनी थी। लेकिन ट्रेनों की डांवाडोल स्थिति और आंदोलन के कार शूटिंग की योजना फिलहाल रद्द कर दी गई है।

शूटिंग रद्द होने से सिर्फ फिल्म निर्माता कंपनी ही नहीं बल्कि टूर एंड ट्रेवल्स से जुड़े स्थानीय व्यापारी व कलाकारों को भी नुकसान हुआ है। शूटिंग के लिए सिनेमा के मुख्य किरदार अभिनेता व अभिनेत्री के साथ 90 लोगों की पूरी टीम आने वाली थी। इस शूटिंग के लिए स्थानीय टूर एंड ट्रेवल व्यापारियों से कई गाड़ियों की बुकिंग की गई थी। इसके अतिरिक्त कई स्थानीय कलाकारों का भी चयन किया गया था। इन कलाकारों को भी मोटी रकम मिलती। शूटिंग रद्द होने से जहां एक ओर ये कलाकार अपनी प्रतिभा को प्रदर्शित करने के वंचित हो गए,वहीं आमदनी पर भी असर पड़ा। फिल्म निर्माता कंपनी अब देश के दूसरे भागों व विदेशों में शूटिंग की योजना बना रही है। दूसरी तरफ विरोध से बदली हिसा की वजह से उत्तर बंगाल पर्यटन व्यवसाय को भी एक बड़ा धक्का लगा है। ट्रेनों के रद्द होने व डावांडोल स्थिति की वजह से भारी संख्या में पर्यटकों का दौरा रद्द हुआ है। बल्कि नए वर्ष को उत्तर बंगाल के प्राकृतिक छटाओं में मनाने वाले पर्यटकों ने भी अपनी यात्रा रद्द की है। इससे उत्तर बंगाल पर्यटन व्यापार को करोड़ो का नुकसान हुआ है। इस संबंध में हिमालयन हॉस्पिटलिटी एंड टूरिज्म डेवलपमेंट नेटवर्क के सचिव सम्राट सान्याल ने बताया कि ट्रेनों के रद्द होने से काफी पर्यटकों ने अपनी बुकिंग कैंसिल कर दी है। इससे यहां के पर्यटन उद्योग को करीब 15 करोड़ रुपये से अधिक का नुकसान हुआ है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस