जेएनएन, गंगारामपुर/बालुरघाट : पूरे विश्व में जहां कोरोना वायरस ने एक महामारी रोग का रूप धारण कर लिया है। जिसमें अब तक लाखों लोग अपने प्राण गंवा चुके है। भारत के विभिन्न राज्यों में यही स्थिति बनी हुई है। इन सब के बीच बंगाल में केंद्र व ममता सरकार के बीच टकराव जारी है। अलीपुरद्वार और जलपाईगुड़ी के भाजपा सांसद को रोकने के बाद अब पुलिस ने बालुरघाट के भाजपा सांसद सुकांत मजूमदार के मार्ग को रोका। राहत सामग्री बांटकर लौटने के क्रम में सांसद को पुलिस की परेशानियों का शिकार होना पड़ा। जिसके बाद सांसद राष्ट्रीय राजमार्ग पर ही धरने पर बैठ गए।

मालूम हो कि मंगलवार को बालुरघाट के भाजपा सांसद सुकांत मजूमदार गंगारामपुर के ठेंगापाड़ा में खाद्य सामग्री वितरण करने के लिए गए थे। वापस लौटने के क्रम में पुलिस ने उन्हें राजमार्ग पर ही रोक लिया। जिसके बाद वे सड़क पर ही बैठ गए। घटना की जानकारी मिलते ही दक्षिण दिनाजपुर जिला पुलिस के डीएसपी धीमान मित्र के नेतृत्व में काफी संख्या में पुलिस बल के साथ भाजपा सांसद को स्कॉट करके उनके घर पहुंचाया गया। बालुरघाट के मास्टरपाडा इलाके में अपने निज निवास में पहुंचाने के बाद पुलिस प्रशासन की ओर से उनके घर पर पहरा बिठा दिया गया। भाजपा सांसद सुकांत मजूमदार ने कहा कि जनता ने हमलोगों यह अधिकार दिया है। संविधान भी यह अधिकार देती है। मैं राहत सामग्री बांटने के लिए गया था। वापस लौटते समय पुलिस ने रोका। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि पुलिस ने सही तरीके से व्यवहार नहीं किया। उन्हें घर जाने के लिए कहा गया। पुलिस तृणमूल कांग्रेस के कैडर के रूप में काम कर रही है।

इधर दक्षिण दिनाजपुर जिले के पुलिस अधीक्षक दवर्षि दत्त ने कहा कि पहले ही दिन महकमा शासक ने एक निर्देश दिया था कि उन्हें होम क्वारंटाइन में रखा जाए। लेकिन उन्होंने आदेश का उल्लंघन कर घर से बाहर निकले है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस