आसनसोल : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को आसनसोल की चुनावी सभा में 35 मिनट के अपने संबोधन में 70 बार दीदी कहा। हर एक मिनट में उन्होंने ममता बनर्जी को दो बार दीदी कहते हुए उन पर तंज कसा।

20 मौके तो ऐसे भी आए जब उन्होंने दीदी ओ दीदी कहा। प्रधानमंत्री ने भाजपा कार्यकर्ताओं व समर्थकों को यह साफ संकेत दे दिया कि अब डरने की जरूरत नहीं है। प्रधानमंत्री की सभा में यह तो होता ही है कि वह अपने संबोधन के दौरान जनता से सीधा संवाद करते हैं। इस सवाल, जवाब के क्रम में भी उन्होंने, सभा स्थल पर मौजूद जनसैलाब से भी तकरीबन 10 बार दीदी कहलवाया। मोदी कहते थे दंगाइयों का साथ किसने दिया तो जनता कहती थी दीदी ने। मोदी बोलते तुष्टिकरण की नीति किसने पनपाई, जनता बोली दीदी ने। वोट की ताकत को बताते हुए कहा कि आम आदमी का एक वोट न केवल सत्ता बदल देता है बल्कि माफिया राज व कुशासन को भी समाप्त कर देता है। इसलिए वोट देना तथा औरों को भी मतदान के लिए लेकर जाना महत्वपूर्ण है। कहा कि दीदी अहंकार में इस कदर डूब चुकी हैं कि हर कोई उन्हें छोटा नजर आता है। दीदी की राजनीति गतिरोध तक ही नहीं रही बल्कि प्रतिशोध की सारी सीमाएं लांघ गईं।

मोदी के पहुंचते ही हुआ जय श्रीराम का घोष : पीएम मोदी की सभा को लेकर निघा एरोड्रम पर शनिवार को सूर्योदय के साथ ही चहलकदमी बढ़ गई। सुबह नौ बजते-बजते तो पश्चिम ब‌र्द्धमान जिले के नौ विधानसभा क्षेत्रों से लोग सभास्थल पर पहुंचने लगे थे। सुबह 10:.30 बजे तक पंडाल के अंदर रखी 70 प्रतिशत कुर्सियां भर गई थी। लोगों के आने का सिलसिला जारी रहा। दोपहर 11: 30 बजे तक तो पंडाल पूरी तरह से भर गया। जितने पंडाल में थे, उससे ज्यादा पंडाल के बाहर थे। पीएम के पहुंचने के बाद लोगों ने जय श्रीराम व भारत माता की जय के नारे के साथ मोदी का स्वागत किया। भीड़ की स्थिति का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि दोपहर 12: 42 पर सभा संपन्न होने के बाद भीड़ जब राष्ट्रीय राजमार्ग पर आई तो जाम की स्थिति बन गई। हर ओर वाहन व लोग नजर आ रहे थे। यातायात को सुचारु बनाए रखने के लिए पुलिस तैनात थी। लेकिन यातायात को सुचारू बनाए रखने में यातायात कर्मियों के पसीने छूट गए। तकरीबन आधे घंटे तक अफरा-तफरी की स्थिति बनी रही।

Edited By: Jagran