संवाद सहयोगी, बर्नपुर : आसनसोल के इस्माइल सोस्टिनगर में मां और भाई की हत्या के बाद आरोपित अनवर आलम उर्फ पप्पू को कोई अफसोस नहीं है। शुक्रवार को हीरापुर थाने से आसनसोल कोर्ट जाते समय अनवर आलम उर्फ पप्पू ने कहा जनवरी में उसने अपने भाई आफताब आलम को एक लाख रुपये उधार दिए था। उसके कुछ महीने बीत गए, लेकिन मुझे बार-बार कहने पर भी रुपये नहीं लौटाए। रुपये नहीं मिलने पर मुझे उन्हें मारने के लिए मजबूर होना पड़ा। आरोपित को आसनसोल कोर्ट में पेश करने के बाद हीरापुर थाना पुलिस ने सात दिन की रिमांड पर लिया।

आरोपित के बयान पर मृतक आफताब आलम की पत्नी नुसरत खातून और आफताब के अन्य भाइयों और पत्नियों ने रुपये उधार लेने से इंकार किया है। उनका कहना है कि इस हत्या के पीछे कोई साजिश है। इस मामले में आरोपित के छोटे भाई जफर इकबाल की पत्नी शबनम परवीन ने गुरुवार रात हीरापुर थाने में शिकायत दर्ज कराई है। शबनम ने बताया कि गुरुवार दोपहर अनवर आलम ने दरवाजा खटखटाया और घर में दाखिल हुआ। मैं अपने नवजात बच्चे को गोद में लेकर घर पर बैठी थी। फिर वह एक कमरे में जाकर बैठ गया। जब मैंने उसे चाय और बिस्कुट दिए, तो उसने मुझसे पूछा कि मेरी मां कहां है। मैंने कहा कि वह बाजार गई हैं। फिर मैं अपने बच्चे को दूध पिलाने के लिए दूसरे कमरे में चली गई। अचानक वह कमरे में गया और मेरे चेहरे और हाथों को तौलिये से बांध दिया और धमकी दी कि ज्यादा कुछ किया तो वह मार डालेगा। तब उनके हाथ में एक बड़ा चापड़ था। इसके बाद उसका भतीजा और मां आई। दोनों के अंदर आने पर अनवर ने भतीजे का हाथ और पैर को बांध दिया। इसके बाद वह अपनी मां को ले गया और उसके मुंह को गमले में रखे पानी में डुबो दिया। इसी बीच देवर आफताब आलम आ गए। अनवर ने उनके बालों को पकड़ कर रसोई में ले गया, जहां उसने धारदार चापड़ से उसकी हत्या कर दी। फिर अनवर फरार हो गया।

Edited By: Jagran