जागरण संवाददाता, रुड़की: गन्ना मूल्य भुगतान व गन्ना मूल्य की घोषणा को लेकर सरकार की लेटलतीफी जारी है। नया पेराई सत्र शुरू होने में अब कुछ ही दिन शेष रह गए हैं, लेकिन चीनी मिल न तो पिछले गन्ने का भुगतान कर रही है और सरकार भी नए पेराई सत्र के लिए गन्ना मूल्य की घोषणा नहीं कर पा रही है। माना जा रहा है कि उत्तर प्रदेश सरकार के गन्ना मूल्य तय करने के बाद ही पेराई सत्र की घोषणा हो सकेगी।

इन दिनों प्रदेश में गन्ना किसान परेशान हैं। किसानों को न तो पिछले पेराई सत्र के गन्ने का भुगतान हो पाया है और न ही मौजूदा पेराई सत्र का दाम सरकार ने घोषित किया है। उत्तराखंड किसान मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी गुलशन ने कहा कि सरकार को कम से कम पेराई सत्र शुरू होने से महीना भर पहले गन्ने के दाम घोषित करने चाहिए। अभी तक सरकार ने इस संबंध में कोई कदम नहीं उठाया है, जिससे किसान परेशान हैं। इसके अलावा बकाया भुगतान को लेकर भी सरकार कोई ठोस कदम नहीं उठा पा रही है। इस संबंध में गन्ना सचिव हरबंस सिंह चुघ ने कहा कि गन्ना मूल्य निर्धारण को लेकर एक कमेटी गठित कर दी गई है। इस कमेटी में किसान प्रतिनिधि, गन्ना विभाग व चीनी मिल के प्रतिनिधियों को शामिल किया गया है। कमेटी की एक बैठक हो चुकी है। जैसे ही कमेटी की सिफारिश आती है, उसके बाद शासन इस पर निर्णय लेगा।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप