जागरण संवाददाता, उत्तरकाशी। हर्षिल से लम्खागा पास होते हुए हिमाचल प्रदेश स्थित छितकुल की ट्रैकिंग पर गए 17 सदस्यीय दल में सात सदस्यों की मौत हो चुकी है। इनमें पांच शवों की शिनाख्त हो चुकी है। उनके शव जिला अस्पताल उत्तरकाशी में पोस्टमार्टम के लिए लाए गए हैं, जबकि दो अन्य शव आइटीबीपी छितकुल की खोज बचाव टीम ने बरामद किए हैं। अभी उनकी शिनाख्त नहीं हो पाई है। दल में शामिल एक पर्यटक और एक गाइड का उपचार उत्तरकाशी जिला अस्पताल में चल रहा है। अभी दल के दो सदस्य लापता हैं, जबकि छह पोर्टर 17 अक्टूबर की रात को ही सुरक्षित छितकुल पहुंच गए थे।

14 अक्टूबर को हर्षिल से 17 सदस्यीय दल लम्खागा पास होते हुए हिमाचल प्रदेश स्थित छितकुल की ट्रैकिंग पर गया था। दल में आठ पर्यटक, एक गाइड, दो रसोईया और छह पोर्टर शामिल थे। 17 अक्टूबर को बर्फबारी होने और एक ट्रैकर गंभीर रूप से घायल होने के बाद छह पोर्टर जान बचाने के लिए बर्फबारी के बीच ही भाग निकले और छितकुल पहुंच गए। लेकिन, दल बर्फबारी के बीच ही फंस गया।

बीती गुरुवार को वायु सेना के तीन हेलीकाप्टर से खोज अभियान चलाया गया, जिसमें घायल मिथुन दारी निवासी विष्णुपुर अंदरमानी, नेपालगंज, साउथ 24 परगना बंगाल को रेस्क्यू किया गया। जबकि, शुक्रवार को घायल गाइड देवेंद्र सिंह निवासी पुरोला उत्तरकाशी को रेस्क्यू किया गया। साथ ही पांच ट्रैकर के अलग-अलग स्थानों से शव भी बरामद हुए। जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी देवेंद्र पटवाल ने बताया कि पांच ट्रैकर के शव उत्तरकाशी लाए गए हैं। दो का उपचार चल रहा है। छितकुल आइटीबीपी की ओर से मिली सूचना के अनुसार दो शव और बरामद हुए हैं, जिनकी शिनाख्त की जा रही है।

इनकी हुई है शिनाख्त

-विकास मैकल निवासी राघवपुर नेपालगंज, साउथ 24 परगना, बंगाल।

-सौरभ घोष, निवासी नेपालगंज, साउथ 24 परगना बंगाल

-सुभियान दास, निवासी 10/1ए भट्टाचारिया, जी स्ट्रीट कालीघाट, बंगाल।

-अनिता रावत, निवासी- एम 95 हरिनगर, दिल्ली।

-तन्मय तिवाड़ी, निवासी किशन नगर, कोलकाता, बंगाल।

यह भी पढ़ें:- उत्‍तराखंड: हर्षिल से छितकुल ट्रैकिंग पर गया 11 सदस्यीय दल लापता, आठ ट्रैकर और तीन रसोइये शामिल

Edited By: Sunil Negi