संवाद सूत्र पुरोला : मोरी के सांवणी गांव में राज्यसभा सदस्य निधि से सामुदायिक भवन निर्माण के नाम पर 10 लाख रुपये हड़पने का मामला प्रकाश में आया है। उपजिलाधिकारी की जांच रिपोर्ट में मामले का पता चला है। पूर्व प्रधान ने गांव के एक व्यक्ति के निजी मकान को 90 हजार रुपये देकर सामुदायिक भवन दिखा दिया। साथ ही 10 लाख रुपये हड़प लिए हैं। एसडीएम की रिपोर्ट के आधार पर मुख्य विकास अधिकारी की तहरीर पर पूर्व प्रधान, खंड विकास अधिकारी सहित मोरी ब्लाक के 16 कर्मचारियों के विरुद्ध सरकारी धन का दुरुपयोग करने को लेकर पटवारी चौकी जखोल में मुकदमा दर्ज कराया गया है।

राज्यसभा सदस्य केटीएस तुलसी ने वर्ष 2018-19 में अग्निकांड प्रभावित सांवणी में सामुदायिक भवन निर्माण को अपनी निधि से 10.30 लाख रुपये की धनराशि दी। लेकिन, धरातल पर सामुदायिक भवन नहीं बना। सितंबर 2021 में मामले का पता चलने पर ग्रामीणों ने सरकारी धन के दुरुपयोग की शिकायत की। जिस पर मुख्य विकास अधिकारी उत्तरकाशी ने 20 सितंबर 2021 को मामले की जांच उपजिलाधिकारी पुरोला सोहन सिंह सैनी को दी। उपजिलाधिकारी सोहन सिंह सैनी ने सांवणी गांव में निरीक्षण कर सामुदायिक भवन निर्माण को लेकर जांच की। जांच में सामने आया कि पूर्व प्रधान ज्ञान सिंह ने गांव के मोती सिंह को 90 हजार रुपये देकर निर्माणाधीन निजी भवन को राज्यसभा सदस्य केटीएस तुलसी की निधि का सामुदायिक भवन दिखाया। कर्मचारियों के साथ मिलकर 10.30 लाख रुपये भी हड़प लिए।

नायब तहसीलदार धनीराम डंगवाल ने बताया कि मुख्य विकास अधिकारी की तहरीर पर पूर्व प्रधान सहित तत्कालीन खंड विकास अधिकारी, ग्राम पंचायत अधिकारी, ग्राम विकास अधिकारी, रोजगार सहायक सहित 16 कर्मियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।

Edited By: Jagran