जागरण संवाददाता, काशीपुर : श्रमिकों को समय पर वेतन न मिलना और अवैध तरीके से काम कराने का मुद्दा तूल पकड़ रहा है। श्रमिक संगठनों ने आरोप लगाया कि राष्ट्रीय दलों ने मजदूर विरोधी रवैये का परिचय दिया है। जिससे मजदूरों में आक्रोश है।

रिचा श्रमिक संगठन, डेल्टा-कॉम्पैक्ट श्रमिक संगठन, एग्रोटेक कंपनी व टेक्नो इंडस्ट्रीज लिमिटेड के श्रमिक प्रतिनिधियों ने बुधवार को प्रेसवार्ता में राष्ट्रीय दलों पर मजदूर विरोधी रवैये का परिचय देने का आरोप लगाया। कहा कि रिचा श्रमिकों को पिछले चार माह और डेल्टा व कॉम्पैक्ट कंपनी के श्रमिकों को छह माह से वेतन नहीं मिला है। ठाकुरद्वारा रोड स्थित टेक्नो इंडस्ट्रीज और बाजपुर रोड स्थित एग्रोटेक में श्रमिकों से ठेकेदारी प्रथा के तहत काम कराया जा रहा है। इतना ही नहीं आठ घंटे के बजाय अवैध रूप से 12 घंटे तक काम कराया जा रहा है। ठेकेदारी प्रथा के चलते निर्धारित वेतन में कटौती भी की जा रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि राष्ट्रीय दलों ने श्रमिकों की समस्याओं पर कोई ध्यान नहीं दिया है। उनके एजेंडे में मजदूर और उनकी समस्याएं गायब हैं। पूर्व में मजदूरों द्वारा चलाए गए आंदोलनों को भी राजनीतिक दलों ने नजरअंदाज किया है। इतना ही नहीं रिचा श्रमिकों पर तो काशीपुर प्रशासन द्वारा मुकदमे भी करा दिए गए और किसी राजनीतिक दल ने मजदूरों का पक्ष जानने की कोशिश नहीं की। ऐसे में लोकसभा चुनावों को लेकर मजदूरों में रोष व्याप्त है। इस मौके पर अध्यक्ष बलदेव सिंह, योगेश पांडेय, मदन सिंह, राकेश श्रीवास्तव, मनप्रीत, खीमानंद जोशी आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस