रुद्रपुर : मां सर्वेश्वरी कालोनी में अपर्णा प्रिया की हत्या और डकैती के खुलासे के दौरान कोतवाली में लोगों का जमावड़ा लगा रहा। इस दौरान खुलासे में मृतका अपर्णा प्रिया के पिता शशिशेखर, मां आशा देवी, भाई अमित और आशीष भी पहुंचे थे। खुलासे के बाद मृतका के परिजन डकैतों को कोसते रहे। इस दौरान शशिशेखर और उनकी पत्नी आशा देवी के आंखों से आंसू आ गए। वह पुलिस अधिकारियों के सामने हाथ जोड़कर डकैतों के लिए फांसी की सजा मांगने लगे। शशि शेखर और उनकी पत्नी के आंसू देख पुलिस अधिकारी और कर्मचारियों की आंखें भी नम हो गई। इंसेट-

पुलिस टीम पर इनामों की बौछार

डकैती का खुलासा करने वाली पुलिस टीम को डीआइजी पूरन ¨सह रावत ने पांच हजार रुपये इनाम देने की घोषणा की है। एसएसपी डॉ. सदानंद दाते ने 2500 रुपये और एसपी सिटी देवेंद्र ¨पचा और एसपी क्राइम कमलेश उपाध्याय ने 1500-1500 रुपये का इनाम देने की घोषणा की। पुलिस टीम में इंस्पेक्टर तुषार बोरा, इंस्पेक्टर कैलाश भट्ट, एसओटीएफ प्रभारी एमपी ¨सह, इंस्पेक्टर जीबी जोशी, इंस्पेक्टर संजय कुमार, इंस्पेक्टर एके ¨सह, इंस्पेक्टर उमेश मलिक, एसआई विद्यादत्त जोशी, एसआइ ललित जोशी, एसआइ मोहन चंद्र पांडे, एसआइ कमलेश भट्ट, एसआइ जस¨वदर ¨सह, एसआइ ओमप्रकाश, एसआइ सुधाकर जोशी, एसआइ होशियार ¨सह, एसआइ पंकज कुमार, हेड कांस्टेबल प्रकाश चंद्र बवाड़ी, प्रकाश भगत, कांस्टेबल प्रमोद रौतेला, संतोष रावत, महेंद्र डंगवाल, खीम ¨सह अधिकारी, बलवंत ¨सह मनराल, सुबोध शर्मा, मतलूब हुसैन, यामिन, फिरोज, बबलू गोस्वामी, राजू पुरी, अमित त्यागी, संजय धौनी शामिल थे। इंसेट-

100 किमी दूर जाकर करते थे बात

पुलिस के मुताबिक गिरफ्तार डकैत पुलिस से बचने के लिए रेलवे स्टेशन के आसपास ही अपना डेरा जमाते थे। पुलिस के आने की भनक लगने पर वे ट्रेन से फरार हो जाते थे। यही नहीं, वे जहां रुकते थे, वहां से अपने परिचितों और परिजनों से मोबाइल पर बात करने के लिए 100 किमी दूर जाते थे। ताकि पुलिस उनकी तलाश में गुमराह हो जाए। इंसेट-

मुखिया पर सब्बल से कर दिया था वार

पुलिस के मुताबिक रुद्रपुर और हल्द्वानी में हुई वारदात के बाद डकैत उप्र, पंजाब, बिहार समेत अन्य राज्यों की ओर भाग निकले। बताया जा रहा कि पंजाब में की वारदात में बंटवारे को लेकर गिरोह दो फाड़ हो गया था। इस पर सदस्यों ने गिरोह के मुखिया राम ¨सह के सिर पर सब्बल से वार कर उसे गंभीर रूप से घायल कर दिया था। बाद में गिरोह के सदस्य उसे मरा समझकर फरार हो गए थे। इंसेट-

डकैतों से बरामद माल

-सोने के दो जोड़ी कान के टॉप्स, एक जोड़ी झुमके, हार, अंगूठी, चेन

-घटना में प्रयुक्त मोबाइल फोन

-दो तमंचे, दो कारतूस 12 बोर

-तीन चाकू, आलानकब, सब्बल, पेचकस और छेनी

Posted By: Jagran