संसू, पंतनगर : पंत विवि शिक्षक संघ (पूटा) ने कुलपति को पत्र भेजकर स्पष्ट कर दिया कि सातवें वेतनमान का लाभ अनुमन्य आदि मांगें जल्द पूरी न हुई तो 16 मार्च से कार्य बहिष्कार किया जाएगा। इससे शिक्षण व्यवस्था एक बार फिर प्रभावित हो सकती है।

पंत विवि शिक्षक संघ ने शुक्रवार शाम बैठक की। इस दौरान पूर्व मांगों पर दिए गए आश्वासन के बाद भी अमल न होने पर नाराजगी जताई। उन्होंने शनिवार को कुलपति को पत्र लिखकर कहा कि छह जनवरी को विवि प्रशासन व शिक्षक समिति के बीच लिए गए निर्णय पर अभी तक विवि प्रशासन ने कोई कार्यवाही नहीं की गई है। इससे 16 मार्च से संपूर्ण कार्य बहिष्कार किया जाएगा। कहा कि 17 मार्च से आंदोलन को मजबूत करने के लिए निर्णय लिया जाएगा। पूटा के अध्यक्ष डॉ रोहिताश्व सिंह ने कहा कि अनुकंपा के आधार पर डॉ. अंजना शुक्ला तथा सुषमा सिंह को मानवता के आधार पर नियोजित करने, परियोजना एवं केवीके में कार्यरत शिक्षकों को सातवें वेतनमान का लाभ अनुमन्य कराने के लिए शासनादेश 9 मार्च 2019 के बिदु 15 को संशोधित कर शासनादेश जारी करने, परियोजना व केवीके के शिक्षकों एवं शिक्षणेत्तर कार्मिकों को सामान्य बजट या राज्य सरकार द्वारा सृजित पदों के सापेक्ष रिक्त पदों या अतिरिक्त पद सृजित कर 15 मार्च, 2020 तक समायोजित करने और वित्त नियंत्रक कार्यालय में कार्यरत कर्मचारियों एवं अधिकारियों का संस्थापना कार्य कार्मिक प्रबंध अनुभाग मुख्य कार्मिक अधिकारी या संस्थापनाधिकारी के अधीन करने के संबध में प्रबंध परिषद की बैठक में रखने पर बनी सहमति पर कार्यवाही की मांग की गई थी।मगर अभी तक कोई मांग पूरी नहीं हो सकी। बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि विवि के शिक्षकों जिनको 7वें वेतनमान का लाभ मिला है, उन्हें तत्काल प्रभाव से एरियर का भुगतान किया जाय। जिन शिक्षकों को सातवें वेतनमान का लाभ नहीं मिला है, उन्हें सातवें वेतनमान अनुमन्य करते हुए अन्य देयकों का भी तत्काल भुगतान किया जाय। बैठक में महामंत्री डॉ. वीके सिंह, उपाध्यक्ष डॉ. धीर सिंह, डॉ. डीसी बचखेती, सचिव डॉ. पीएन राय, डॉ. संदीप कुमार, डॉ. अनूप कुमार सचान आदि मौजूद थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस