संवाद सहयोगी,खटीमा : सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत सरकारी सस्ते गल्ले की दुकानों पर खाद्यान्न का वितरण ऑनलाइन नहीं हो पर रहा है। नेटवर्किंग व साइड न चलने की वजह से उपभोक्ताओं को कई-कई घंटे लाइनों में खड़ा होना पड़ रहा है। जिसके चलते उन्हें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

बता दें कि सरकारी सस्ते गल्ले की दुकानों को ऑनलाइन कर दिया गया है। इसके तहत सरकार की ओर से नगर व ग्रामीण क्षेत्रों में स्थित राशन की दुकानों को लैपटॉप, प्रिंटर, बायो मैट्रिक डिवाइस, नेट शटर आदि पूर्व में दिए जा चुके हैं। खाद्य आपूर्ति विभाग ने सितंबर माह से सभी सस्ता गल्ला विक्रेताओं को ऑनलाइन ही राशन वितरण करने के आदेश दिए है। अधिकांश दुकानों पर सितंबर माह का राशन वितरण किया जा रहा है। इस दौरान वहां ऑनलाइन खाद्यान्न वितरण करने में उपभोक्ताओं की लंबी कतारें लग रही हैं। बताते है कि नेटवर्किग व विभाग की साइड नहीं चल पाने के कारण वितरण नहीं हो पा रहा है। घंटों लाइनों में लगने के बाद भी कार्ड धारकों को राशन नहीं मिल पा रहा है। वहीं प्रधान संघ अध्यक्ष मोहनी पोखरिया ने विभाग से पूर्व की तरह ऑफलाइन ही खाद्यान्न वितरण कराने का आग्रह किया है। ताकि आसानी से लोगों को खाद्यान्न प्राप्त हो सके। इधर पूर्ति निरीक्षक हयात सिंह बुंगला ने कहा कि नेटवर्किग के चलते ऑनलाइन वितरण में कुछ दिक्कते आ रही हैं। जिसे ठीक कराया लिया जाएगा। उन्होंने राशन विक्रेताओं से ऑनलाइन ही खाद्यान्न बांटने को कहा है।

Posted By: Jagran