जागरण संवाददाता, रुद्रपुर : हल्द्वानी के बाद रुद्रपुर को हत्या और डकैती की वारदात से गहरे जख्म देने वाला गिरोह उप्र के शाहजहांपुर से ताल्लुक रखता है। मारवाड़ी गिरोह के नाम से चर्चित इस गैंग के छह डकैतों को पुलिस ने आटामांडा, भोजीपुरा रेलवे स्टेशन के पास बनी झुग्गी झोपड़ियों से गिरफ्तार कर लिया है। चार फरार डकैतों की तलाश में पुलिस टीमें जुटी हुई हैं। पुलिस ने वारदात में प्रयुक्त हथियार और लाखों के जेवर भी इनसे बरामद करने का दावा किया है। इन सभी को जेल भेज दिया गया है।

हल्द्वानी में पंचायत घर के पास को¨चग संचालक की पत्नी की हत्या व डकैती की वारदात को अंजाम देने के बाद बदमाशों ने आठ जून की तड़के ¨सह कालोनी निवासी एफसीआइ कर्मचारी नरेश चौहान और उनके किरायेदार के घर में डकैती की घटना को अंजाम दिया था। इसके ठीक 14 दिन बाद डकैतों ने रुद्रपुर को भी गहरे जख्म दिए। मां सर्वेश्वरी कालोनी में पंकज श्रीवास्तव के घर को निशाना बना उन्होंने पंकज को गंभीर रूप से घायल करने के साथ ही उनकी पत्नी अपर्णा प्रिया की हत्या कर दी थी। हालांकि गिरोह को संरक्षण देने वाले दो लोगों को पिछले दिनों हल्द्वानी पुलिस ने जेल भेज दिया था पर असली बदमाश पुलिस के हाथ नहीं आए थे।

एसएसपी डॉ. सदानंद दाते ने शनिवार को पत्रकार वार्ता में बताया कि घटनाओं के खुलासे को संदिग्धों के साथ ही पूर्व में प्रकाश में आए डकैतों के संबंध में जानकारी जुटाई गई। इस दौरान पता चला कि हल्द्वानी और रुद्रपुर में हुई तीनों डकैती में शाहजहांपुर के मारवाड़ी गिरोह की सक्रियता हो सकती है। मुरादाबाद के बिलारी, मूड़ापांडे, लक्सर और काशीपुर के आइटीआइ थाना क्षेत्र में हुई डकैती और हत्या में शामिल मारवाड़ी गैंग के राम ¨सह, बचराम उर्फ लीची की मौजूदगी वारदात के दौरान ऊधम¨सहनगर और नैनीताल जिले में मिली थी। शुक्रवार रात सर्विलांस पर लगे मोबाइल नंबर की लोकेशन किच्छा क्षेत्र में मिली। पुलिस सक्रिय थी तो लालकुआं रोड पर घेराबंदी कर दी। बेनी मजार के पास रेलवे लाइन के करीब से पांच डकैतों को पकड़ लिया गया। पुलिस पूछताछ में उन्होंने अपना नाम लखीमपुर खीरी जिले के पसगवां थानांतर्गत ग्राम रम्पुरा निवासी केदार पुत्र कृपाल, धीरेंद्र उर्फ लड्डू, पुत्र कृपाल तथा शाहजहांपुर जिले के निगोही थानांतर्गत ग्राम ईसापुर निवासी बचराम उर्फ लीची पुत्र लक्ष्मण उर्फ हुकुम इसी थाना क्षेत्र के ग्राम मिल्किया निवासी खेम उर्फ खिमा पुत्र टेकराम और सूजर पुत्र टेकराम बताया। तलाशी में उनसे पुलिस को दो तमंचे, दो ¨जदा कारतूस 12 बोर के, तीन चाकू, आलानकब, सब्बल, पेचकस बरामद हुआ। पूछताछ में उन्होंने मां सर्वेश्वरी में महिला की हत्या और डकैती के साथ ही ¨सह कालोनी में हुई डकैती की वारदात को अंजाम देने की बात कुबूल की। एसएसपी डॉ. सदानंद दाते ने बताया कि पूछताछ में उन्होंने लूटा गया माल आटामांडा, रेलवे स्टेशन बरेली में झुग्गी झोपड़ियों में छिपाकर रखने की बात बताई। पुलिस ने माल भी बरामद कर लिया। बाद में पुलिस ने उनकी निशानदेही पर गिरोह के मुखिया शाहजहांपुर जिले के ¨सधोली थानांतर्गत ग्राम रावतपुर निवासी राम ¨सह पुत्र त्रिलोकी को भी गिरफ्तार कर लिया। इस दौरान उन्होंने बताया कि वारदात में उनके साथ शाहजहांपुर निवासी धन्ना, लाला, दलगंजन व इसी जिले के निगोही थानांतर्गत ईसापुर निवासी रामनाथ भी शामिल हैं। एसएसपी डॉ. सदानंद दाते ने बताया कि डकैतों ने छह-सात जून की रात हल्द्वानी में हुए राधा भट्ट हत्याकांड व डकैती की घटना के साथ ही उत्तर प्रदेश में कासगंज, बिजनौर, बरेली के शीशगढ़, सैंथल, रिठौरा, बहेड़ी में भी लूट, डकैती की वारदात को अंजाम देने की बात कुबूल की है।

Posted By: Jagran