जागरण संवाददाता, काशीपुर : पीड़ित महिला ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ कोतवाल से मिलकर आरोपित ससुरालियों की गिरफ्तारी की मांग की। कोतवाल ने घटना को दिल्ली का बताकर केस ट्रांसफर करने का भरोसा दिलाया है।

मोहल्ला काजीबाग निवासी माहेनूर पुत्री मोहम्मद शरीफ ने महिला हेल्पलाइन में कुछ दिन प्रार्थना-पत्र देकर कहा था कि एक साल पहले उसकी शादी अंसार इंटर कॉलेज के सामने वाली गली मस्जिद के पास मुरादाबाद निवासी शहजाद पुत्र हबीब जान से हुई थी। पति दिल्ली में नौकरी करता है। कुछ दिन बाद ससुराली उसे रसीदुल्ला, गली नंबर-11, कादमपुर दिल्ली स्थित मकान में ले गए। इस दौरान उसे पति के कई महिलाओं से अवैध संबंध होने की जानकारी मिली। पीड़िता ने तबस्सुम पत्नी लईक, शायना पत्नी पप्पू, सास ताहिरा बेगम और देवर शादाब व शाहवेज पर दहेज के लिए प्रताड़ित करने का केस दर्ज कराया था। छह अप्रैल 2017 की रात लईक और पप्पू द्वारा जबरन अवैध संबंध बनाने के आरोप में पुलिस ने पति शहजाद, लईक, पप्पू पर धारा 376 भी लगाई थी। हेल्पलाइन में समझौते के तहत ससुरालियों ने दहेज में दिए गए सामान व चार लाख रुपये वापस करने की बात कही थी। सामान वापस कर दिया, मगर रुपये वापस नहीं किए। ससुरालियों पर केस दर्ज करा दिया। पीड़िता ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ कोतवाल चंचल शर्मा से आरोपितों की गिरफ्तारी की मांग की। कोतवाल ने बताया कि कोर्ट से स्टे मिलने के बाद गिरफ्तारी नहीं की जा सकती है। वकील मनोज जोशी ने घटना स्थल दिल्ली का होना बताकर केस ट्रांसफर करने की बात कही। इस पर कोतवाल ने केस को जल्द दिल्ली पुलिस को ट्रांसफर करने का आश्वासन दिया। इस मौके पर नगर कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष संदीप सहगल, लता शर्मा, अलका पाल, आसिफ रजा, चेतन अरोरा, मुक्ता ¨सह, अजिता जया शर्मा आदि मौजूद थे।

Posted By: Jagran