जागरण संवाददाता,नई टिहरी: जिला पंचायत अध्यक्ष सोना सजवाण ने कहा कि कोरोना काल के इस बुरे दौर में ग्रामीण क्षेत्रों में स्वरोजगार बढ़ाने और युवाओं को रोजगार से जोड़ने के लिए मनरेगा में कृषि विकास और स्वरोजगार के लिए 70 प्रतिशत बजट खर्च किया जाएगा। इस वित्तीय वर्ष में मनरेगा के लिए छह अरब तीन करोड़ 95 लाख 89 हजार रुपये का बजट अनुमोदित किया गया है। जबकि इस वर्ष कुल 21 हजार 606 कार्य मनरेगा के तहत किए जाएंगे।

बुधवार को जिला पंचायत भवन में पत्रकारों से वार्ता में उन्होंने बताया कि इस बार कोरोना के चलते हजारों युवा अन्य राज्यों से अपने गांव लौटे हैं। सभी को रोजगार से जोड़ने और ग्रामीण क्षेत्रों में स्वरोजगार बढ़ाने के लिए इस बार 70 प्रतिशत बजट कृषि विकास, जल संरक्षण, पशुपालन, चारा विकास और अन्य प्राकृतिक संसाधनों के विकास में खर्च किया जाएगा। इससे प्रवासी युवाओं को लाभ मिलेगा। इस अवसर पर जिला पंचायत सदस्य रघुवीर सजवाण, हितेश चौहान, विनोद लाल, रजनीश मौजूद रहे।

ये होंगे नए काम

जिला पंचायत अध्यक्ष सोना सजवाण ने बताया कि इस बार जिले में 19 गांव को नींबू की खेती के लिए चुना गया है। इन सभी गांवों में नींबू के बगीचे लगाए जाएंगे। इसी तरह जिले की 14 ग्राम पंचायतों में चारा विकास के लिए विदेशी घास नेपियर का उत्पादन किया जाएगा। इसके लिए चारागाह बनाए गए हैं। इस घास की खासियत है कि इसे खाकर दुधारू पशु ज्यादा दूध देते हैं और वह उनके लिए पौष्टिक भी होता है। इसी तरह ग्रामीण क्षेत्रों में पुराने पानी के टैंक और प्राकृतिक स्त्रोतों में भी जल संरक्षण के लिए कार्य किया जाएगा।

Edited By: Jagran