जागरण टीम, गढ़वाल: कोरोना संक्रमण के चलते प्रशासन, पुलिस, नगर पंचायत और स्वयंसेवी संस्थाएं सड़कों, घरों और झोपड़ियों में रह रहे श्रमिक परिवारों को खाद्य सामग्री बांट रहे हैं।

घनसाली में कोरोना संक्रमण को देखते प्रशासन मुस्तैदी से काम पर जुट गया है। शहर से लेकर अब ग्राम पंचायत स्तर पर भी असंगठित और गरीब लोगों को खाद्य सामग्री का वितरण का कार्य शुरू किया गया है। प्रशासन ने शनिवार को नगर पंचायत घनसाली में पांच परिवार को खाद्य सामग्री के पैकेट वितरित किए। तहसीलदार रेनू सैनी ने बताया कि शहर से लेकर ग्राम पंचायत स्तर पर कोरोना संक्रमण के कारण घरों में कैद मजदूरों की शीघ्र सूची तैयार कर क्षेत्रीय पटवारी से उन के लिए खाद्य सामग्री के पैकेट उपलब्ध करवाने के निर्देश जारी कर दिए हैं।

रुद्रप्रयाग में शनिवार को गश्त के दौरान कोतवाली रुद्रप्रयाग में कांस्टेबल कुलदीप मेहरा और लखपत सिंह ने लॉक डाउन के कारण एक गरीब परिवर की सूचना मिली,जिसमें एक नौ वर्षीय दीपक, आठ वर्षीय देविका एवं उनकी 70 वर्षीय दादी गंगा देवी के साथ जवाड़ी में रहते हैं। बच्चों की माता का देहांत हो चुका है, जबकि पिता सुंदरलाल विक्षिप्त हैं। परिवार का पालन पोषण करने के लिए कोई भी नहीं है, बच्चों की दयनीय स्थिति को देखते हुए कोतवाली रुद्रप्रयाग पुलिस ने आवश्यक वस्तुएं एवं घरेलू खाद्य सामग्री आदि प्रदान की।

पौड़ी शहर में बिहार, बिजनौर, नजीमाबाद सहित नेपाल आदि स्थानों के मजदूर बड़ी संख्या में रहते हैं। अधिकांश मजदूर बाहर होटलो में ही खाते हैं, लेकिन लॉक डाउन के चलते होटल बंद होने के कारण इन मजदूरों के समक्ष खाने को संकट पैदा हो गया है। ऐसे में इन मजदूरों के लिए प्रशासन ने शहर के बीचों बीच स्थित डीएवी कॉलेज परिसर में निश्शुल्क भोजन की व्यवस्था की है। इस शिविर की देखरेख एसडीएम सदर अंशुल सिंह कर रहे हैं। अंशुल सिंह ने बताया कि भोजन व्यवस्था के दौरान पूरे सावधानी बरत रहे हैं। भोजन के लिए बैठने के दौरान शुक्रवार रात करीब 250 शारीरिक दूरी का पूरा ध्यान रखा जा रहा है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस