संवाद सहयोगी, रुद्रप्रयाग: सोमवार को पुराने विकास भवन में जनता दरबार का आयोजन किया गया, जिसमें 33 शिकायतों में से 22 शिकायतों का मौके पर निस्तारण किया गया। शेष शिकायतों के निस्तारण के लिए डीएम ने संबंधित अधिकारियों को प्राथमिकता के आधार पर निस्तारण के निर्देश दिए। साथ ही अनुपस्थित अधिकारियों के वेतन रोकने के निर्देश भी दिए।

पुराने विकास भवन सभागार में आयोजित जनता दरबार डीएम मंगेश घिल्डियाल की अध्यक्षता में हुआ। जनता दरबार में सुरेंद्र ¨सह बिष्ट निवासी पाबौ धनपुर ने पीडा-पाबौ मोटरमार्ग पर बरसात में आए मलबा, झाड़ी के सफाई करने तथा ईई लोनिवि रुद्रप्रयाग को मोटरमार्ग के निरीक्षण कराने, विमल चंद्र शुक्ला निवासी नागजगई में पूर्व में निर्मित जाख तोक व किरमोडिया-ल्वारा-अंद्रबाडी पेयजल योजना एवं एनजीएओ के स्थापित सौर ऊर्जा संयंत्रों की मरम्मत एवं ओलगौंडा-तिनसोली मोटरमार्ग निर्माण, नागजगई में कूड़ा निस्तारण, जीत ¨सह बुटोला निवासी फलासी ने छत्तोरा तोंक कालिका की नहर मरम्मत न होने की शिकायत की।

इसके अलावा, ग्राम प्रधान कुरझण ने रूद्रप्रयाग-चोपड़ा-उडामांडा मोटरमार्ग पर किमी 19 से ग्राम कुरझण तक मोटर मार्ग निर्माण करने, दिनेश ¨सह ग्राम लौंगा ने कंपनी आरजीबी बिल्डवैल कंपनी के इलाज को धनराशि न देने की शिकायत दर्ज की। डीएम ने संबंधित विभागों को जल्द से जल्द शिकायतों के निस्तारण के निर्देश दिए। डीएम ने उरेडा, अर्थ एवं संख्यिकी विभाग, दुग्ध विभाग समेत कई विभागों के अधिकारियों के जनता दरबार में न आने पर वेतन रोकने के निर्देश भी दिए। इस अवसर पर जिलाधिकारी ने पूर्व शिकायतों की समीक्षा की। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी एनएस रावत, एसडीएम देवानंद शर्मा, तहसीलदार ऊखीमठ जयवीर राम बधानी, मुख्य कृषि अधिकारी एसएस वर्मा सहित जिलास्तरीय अधिकारी और फरियादी उपस्थित थे।

Posted By: Jagran