संवाद सहयोगी, रुद्रप्रयाग: जिला अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक व मुख्य चिकित्सा अधीक्षक चीफ फार्मेसिस्ट की तैनाती को लेकर आमने-सामने हैं। सीएमएस ने शासन को पत्र भेजकर सीएमओ कार्यालय रुद्रप्रयाग में संबद्ध चीफ फार्मेसिस्ट को मूल तैनाती जिला चिकित्सालय के लिए कार्यमुक्त करने को कहा कि जिला चिकित्सालय में तीन पदों के सापेक्ष केवल एक ही चीफ फार्मेसिस्ट तैनात है, ऐसे में कार्य में व्यवधान पैदा हो रहा है। उधर, सीएमओ डॉ. एसके झा का कहना है कि यात्रा सीजन में कार्य अधिक होने के चलते जिला अस्पताल से फार्मासिस्ट को संबद्ध किया गया है। किसी अन्य फार्मासिस्ट की व्यवस्था होते ही शीघ्र कार्यमुक्त कर दिया जाएगा।

मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. डीपी सेमवाल ने बताया कि जिला अस्पताल में तैनात चीफ फार्मेसिस्ट केएन सेमवाल को यात्रा तैयारियों के नाम पर लंबे समय से सीएमओ कार्यालय रुद्रप्रयाग में अटैच किया हुआ है। कई बार सीएमओ कार्यालय को पत्र भी भेजे गए हैं, लेकिन उन्हें जिला अस्पताल के लिए रिलीव करने के बजाय बीते वर्ष नवंबर को फिर से यात्रा तैयारियों के तहत अग्रिम आदेशों तक पुन: संबद्ध कर दिया गया है। जबकि जिला चिकित्सालय में चीफ फार्मेसिस्ट के तीन पदों में सिर्फ एक कार्यरत हैं, जो औषधि भंडार की देखरेख के साथ वीआइपी व वीवीआइपी ड्यूटी में व्यस्त रहते हैं। अन्य दो पदों में एक रिक्त चल रहा है। जबकि चीफ फार्मेसिस्ट केएन सेमवाल सीएमओ कार्यालय में सम्बद्ध है। इसके अलावा प्रभारी अधिकारी फार्मेसी और एक स्टॉफ नर्स भी ऋषिकेश व देहरादून अटैच हैं। मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. डीपी सेमवाल ने स्वास्थ्य निदेशालय और सीएमओ को पत्र भेजकर सीएमओ से संबद्ध चीफ फार्मेसिस्ट को जिला अस्पताल में चिकित्सा व्यवस्था को सुचारु संचालन के लिए जल्द कार्यमुक्त करने को कहा है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस