संवाद सहयोगी, रुद्रप्रयाग: अटल उत्कृष्ट राजकीय इंटर कालेज रुद्रप्रयाग समेत जनपद के विभिन्न विद्यालयों में प्रवेशोत्सव मनाया गया। राइंका रुद्रप्रयाग में 100, जबकि राइंका गुप्तकाशी में 150 नए बच्चों ने प्रवेश लिया। इन बच्चों का माल्यार्पण कर जोरदार स्वागत किया गया। वहीं रुद्रप्रयाग विधायक भरत सिंह चौधरी ने राइंका रुद्रप्रयाग में मेधावी छात्रों को स्मृति चिह्न देकर सम्मानित भी किया।

राइंका रुद्रप्रयाग के प्रांगण में आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि रुद्रप्रयाग विधायक भरत सिंह चौधरी ने कहा कि सरकारी विद्यालय ही ऐसे केंद्र हैं, जहां छात्र को समग्र शिक्षा का ज्ञान मिलता है। सरस्वती के इन मंदिरों में अब काफी बदलाव आ रहा है, जहां छात्र-छात्राएं स्वयं मेहनत कर उत्कृष्ट प्रदर्शन कर रहे हैं। उन्होंने नए छात्रों को प्रवेश दिलाने में उत्कृष्ट योगदान के लिए शिक्षक दिनेश कोठारी, वीरेंद्र जेठूड़ी, भगत सिंह नेगी एवं चतुर्थ कर्मी पूरणलाल को सम्मानित किया। विद्यालय में 100 नए छात्रों के उज्ज्वल भविष्य की कामना की गई। विधायक द्वारा इंटर के मेधावी ऋषभ बिष्ट, शिया नेगी, शुभम बिष्ट, हाईस्कूल शिवांगी असवाल, दिव्यांशी रतूड़ी एवं निशा बिष्ट को सम्मानित किया। इस मौके पर विद्यालय प्रधानाचार्य नरेश जमलोकी, पीटीए अध्यक्ष राजेंद्र नौटियाल, कोषाध्यक्ष बबीता उनियाल, पीटीएस सदस्य पुष्पा चौधरी, देवकी देवीसहित सभी शिक्षक-शिक्षिकाएं मौजूद थी।

वहीं अटल उत्कृष्ट राजकीय इंटर कालेज गुप्तकाशी में प्रवेशोत्सव मुख्य शिक्षाधिकारी सीएन काला की उपस्थिति में संपन्न हुआ, जिसमें 150 नवप्रवेशी छात्र-छात्राओं के साथ उनके अभिभावकों को भी सम्मानित किया गया। सीईओ ने अभिभावक अटल विद्यालयों में अधिक से अधिक प्रवेश कराने का आह्वान किया। सरकारी विद्यालय भी अब आपके बच्चों को निश्शुल्क शिक्षा केंद्रीय विद्यालय की तर्ज पर प्रदान करेंगे। विद्यालय के प्रधानाचार्य सुबोध सेमवाल ने कहा कि अब हमारे विद्यालय में संपूर्ण स्टाफ उपलब्ध है और विद्यालय में हिदी व अंग्रेजी दोनों ही माध्यम से पढ़ाई हो रही है। वहीं राइंका कोठगी के प्रधानाचार्य धर्मेंद्र सिंह पंवार ने बताया 31 नए प्रवेशी छात्रों का सरकारी स्कूल मे प्रवेश लेने पर फूलमालाओं के साथ जोरदार स्वागत किया गया। उन्होंने अभिभावकों से सरकारी स्कूलों में पढ़ाने के लिए प्रेरित किया। कोठगी में भी 31 छात्र-छात्राओं ने अलग-अलग प्राइवेट स्कूलों से आकर सरकारी स्कूल में दाखिला लिया।

Edited By: Jagran