संवाद सहयोगी, पिथौरागढ़: प्रदेश के सरकारी चिकित्सालयों में स्वास्थ्य सेवाओं में यूजर चार्ज बढ़ाए जाने से पिथौरागढ़ संघर्ष समिति के लोग भड़क गए हैं। आक्रोशित समिति के लोगों ने इसके विरोध में प्रदेश सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया और अविलंब इस फैसले को वापस नहीं लेने पर उग्र आंदोलन की धमकी दी।

बुधवार को जिलाधिकारी कार्यालय के निकट समिति के अध्यक्ष दीपक तिवारी के नेतृत्व में प्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई। तिवारी ने कहा कि प्रदेश सरकार कभी विकास प्राधिकरण के नाम पर जनता को लूट रही है तो कभी स्वास्थ्य सेवाओं में यूजर चार्ज बढ़ाकर आम जनता की जेब पर डाका डाल रही है। अस्पताल में पर्ची से लेकर अल्टासाउंड, भर्ती फीस व अन्य शुल्कों में तिगुना वृद्धि कर दी गई है, जो जनता के साथ अन्याय है। सभासद पवन माहरा व अनिल माहरा ने कहा कि स्वास्थ्य सेवाएं सुधारने के बजाय यूजर चार्ज बढ़ाए जा रहे हैं। पर्ची शुल्क 23 से बढ़ाकर 60 रु पये कर देना समझ से परे है। छात्रसंघ उपाध्यक्ष मुकेश मेहता, महासचिव योगेश सौन ने कहा कि सीमांत जिले की जनता सरकारी चिकित्सालयों पर ही निर्भर है। गरीब जनता पर जबरन आर्थिक बोझ डाला जा रहा है। इस तरह की मनमानी बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं की जाएगी। इसके बाद प्रदर्शनकारियों ने जिलाधिकारी डॉ. विजय कुमार जोगदंडे को मुख्यमंत्री के नाम का एक ज्ञापन सौंपा। जिसमें उन्होंने कहा कि यदि शीघ्र यूजर चार्ज वापस नहीं लिया गया तो सीमांत की जनता सड़कों पर उतरने को बाध्य होगी। प्रदर्शन करने वालों में लोकेश जोशी, पवन पाटनी, सुधीर चौहान, कमल कुमार पांडेय, रवींद्र सिंह बिष्ट, नीरज कुमार, दिनेश सौन, अनिल माहरा, किशन सिंह खड़ायत, कमल सूंठा, सूरज कुमार, आशीष, नीरज मेहता आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस