जाटी, पिथौरागढ़/ धारचूला/मुनस्यारी : सीमांत में एक बार फिर जमकर बादल बरसे। भारी बारिश से लंबे समय बाद खुले मोटर मार्ग फिर से बंद हो गए हैं। चीन सीमा तक जाने वाला तवाघाट-गर्बाधार-लिपुलेख मार्ग खुलने के 24 घंटे बाद फिर बंद हो गया है। स्यांगठा के पास मार्ग बंद हो चुका है। जिलेभर में बंद एक दर्जन मार्गो से सवा लाख की आबादी प्रभावित है।

रविवार रात को जिलेभर में बारिश हुई। सीमांत धारचूला और मुनस्यारी तहसीलों में भारी बारिश से बीते दिनों खुले कुछ मार्ग फिर से बंद हो गए हैं। 26 दिन बाद यातायात के लिए खुला लिपुलेख मार्ग फिर से स्यांगठा के पास मलबा आने से बंद हो गया है। बीआरओ मार्ग खोलने में जुटा है। सोमवार देर सायं तक मार्ग खुलने के आसार हैं। तवाघाट-सोबला-तिदांग मार्ग पर कोकलखेत, नारायण पुर, छिरकिला बांध स्थल, खेल, कंन्योती में मार्ग बंद है। कंच्योती में पुल बहने से मार्ग बंद है। धौलीगंगा जल विद्युत परियोजना के बांध स्थल छिरकिला में कुछ मीटर सड़क बांध में समा गई है। यहां पर मार्ग निर्माण के लिए एनएचपीसी ने सामग्री पहुंचा दी है।

कंच्योती से वुथिर्ग तक अभी भी मार्ग बंद है। उच्च हिमालय में वुर्थिग से नागलिंग तक मार्ग खोल दिया गया है। जबकि नागलिंग से ढाकर तक पूर्व में ही मार्ग खुल चुका है। इस मार्ग के तीन चार दिनों में खुलने के आसार हैं। मार्ग विगत 101 दिनों से बंद है। क्षेत्र के चालीस गांवों का संपर्क भंग है।

---

रात की बारिश से फिर दहशत मार्ग बंद होने से प्रभावित क्षेत्र में रविवार रात की बारिश से फिर दहशत बनी है। विगत सौ दिनों से परेशानी झेल रहे ग्रामीणों की दुश्वारियां समाप्त होने का नाम नहीं ले रही हैं। यहां जनजीवन अस्त-व्यस्त बना हुआ है। आपूर्ति बिना वस्तुओं के अभाव की स्थिति बनी है। किसी के बीमार पड़ने पर उपचार के लिए अस्पताल पहुंचाना कठिन हो चुका है।

---

वर्जन

सीमा मार्गो को खोलने का कार्य तेजी से चल रहा है। तवाघाट-लिपुलेख मार्ग बीती रात्रि की बारिश से फिर बंद हो गया है। इसके सोमवार सायं तक खुलने के आसार हैं। दारमा मार्ग खोलने का प्रयास जारी है।

-एके शुक्ला, एसडीएम, धारचूला

---

जिले के बंद मार्ग नाचनी-बांसबड़, नाचनी-भैंस्कोट, मसूरीकांठा-होकरा, बंगापानी-जाराजिबली, आदिचौरा-सीणी, बांसबगड़-कोटा-पंद्रहपाला, बांसबड़-धामीगांव, सेलमाली-माणीधामी, मुनस्यारी-हरको, तवाघाट-घटियाबड़, तवाघाट-सोबला, सोबला-दर-तिदांग, तवाघाट-नारायण आश्रम।

Edited By: Jagran