संवाद सहयोगी, पिथौरागढ़ : जिला पंचायत के शपथ ग्रहण समारोह में हुए बवाल के बाद सोमवार को जिला पंचायत सदस्य जगत मर्तोलिया को शपथ ग्रहण कराई गई। भारी पुलिस बल की मौजूदगी में जिला पंचायत की परिचयात्मक बैठक शांतिपूर्ण ढंग से निपटी। सदस्यों ने अपने-अपने क्षेत्र की मूलभूत समस्याओं का प्रमुखता से उठाया। बीते रोज रामलीला मैदान में हुए शपथ ग्रहण समारोह के दौरान जिला पंचायत सदस्य जगत मर्तोलिया और अध्यक्ष पति वीरेंद्र बोहरा के बीच हुए विवाद के बाद मामला पुलिस तक पहुंच गया था। दोनों पक्षों ने एक दूसरे के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई है। इस विवाद के बाद जिला पंचायत सदस्य मर्तोलिया के शपथ ग्रहण को लेकर संशय बना हुआ है।

सोमवार को जिला पंचायत की परिचयात्मक बैठक हुई। बैठक से पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष दीपिका बोहरा ने सीडीओ वंदना की मौजूदगी में जिला पंचायत सदस्य मर्तोलिया को शपथ ग्रहण कराई। शपथ ग्रहण के बाद शुरू हुई परिचयात्मक बैठक में अधिकारियों और सदस्यों के बीच परिचय हुआ। विभागीय अधिकारियों ने ग्रामीण क्षेत्रों के विकास के लिए चलाई जा रही योजनाओं की जानकारी सदस्यों को दी। इस दौरान सदस्यों ने अपने-अपने क्षेत्र की पानी, बिजली, शिक्षा, सड़क, चिकित्सा से संबंधित समस्याओं से अधिकारियों को अवगत कराया। जिला पंचायत अध्यक्ष ने कहा कि सभी को साथ लेकर जिले का विकास उनकी प्राथमिकता रहेगी। बैठक में जिला पंचायत के सभी सदस्य मौजूद रहे। बैठक में परियोजना अधिकारी डीआरडीए डीडी पंत, जिला विकास अधिकारी गोपाल गिरी सहित तमाम विभागीय अधिकारी मौजूद थे। संचालन अपर मुख्य अधिकारी अभिषेक खोलिया ने किया।

---------

कुमाऊंनी में अपनी बात रखकर छा गए वाणी

पिथौरागढ़: जिला पंचायत की परिचयात्मक बैठक में गणाई क्षेत्र के जिला पंचायत सदस्य चंदन वाणी ने कुमाऊंनी भाषा में अपनी बात रखी। उन्होंने जंगली जानवरों की समस्याओं के साथ ही क्षेत्र की शिक्षा, चिकित्सा का मसला कुमाऊंनी भाषा में अधिकारियों के सामने रखा। उन्होंने कहा कि दूरस्थ क्षेत्र में आधार कार्ड नहीं बन पा रहे हैं जिससे लोग सरकारी योजनाओं का लाभ पाने से वंचित हो रहे हैं। उन्होंने अगली बैठक तक इन समस्याओं का समाधान नहीं होने पर अनशन पर बैठ जाने की चेतावनी दी।

----------

सदस्य ने अध्यक्ष की रिपोर्ट पर उठाए सवाल

पिथौरागढ़: जिला पंचायत सदस्य जगत मर्तोलिया ने जिला पंचायत अध्यक्ष दीपिका बोहरा द्वारा पुलिस में लिखाई गई रिपोर्ट परा सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने कहा कि जिस वक्त उन पर हमला किया गया उस वक्त जिला पंचायत अध्यक्ष मौके पर मौजूद ही नहीं थीं। ऐसे में उन्हें जान से मारने की धमकी देने का आरोप झूठा है। जिलाधिकारी स्वयं मौके पर मौजूद थे। उन्होंने कहा है कि जिला पंचायत अध्यक्ष कब आयोजन स्थल पर पहुंची इसकी पुष्टि उनके घर से लेकर रामलीला मैदान तक लगे सीसीटीवी कैमरों से की जा सकती है। मर्तोलिया ने कहा है कि जिला पंचायत अध्यक्ष सिर्फ अपने पति को बचाने के लिए उन पर बेबुनियाद आरोप लगा रही है। उन्होंने पुलिस अधीक्षक को ज्ञापन सौंपकर अपने खिलाफ दर्ज रिपोर्ट को निरस्त किए जाने की मांग की है। उन्होंने इस संबंध में जिलाधिकारी को भी ज्ञापन भेजा है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस