जासं, पिथौरागढ़: जिले में तीसरे दिन भी बारिश हुई। भारी बारिश से टनकपुर-तवाघाट हाईवे पर मीना बाजार सहित चार स्थानों पर मलबा आने से मार्ग सात घंटे बंद रहा। मीना बाजार के पास मार्ग बंद होने से इस दौरान जिले का अन्य जनपदों से सम्पर्क कटा रहा। भारी संख्या में वाहन फंसे रहे।

शुक्रवार की रात से ही हल्की बारिश शुरू हो गई थी। सुबह बारिश का वेग काफी तेज हो गया। इस दौरान हाईवे पर घाट से पिथौरागढ़ के बीच मीना बाजार के पास भारी मलबा आ गया। मलबा आने से सुबह मैदानी क्षेत्रों से आने वाले वाहन और जिले से बाहरी जनपदों को जाने वाले वाहन फंस गए। जिसमें आवश्यक सेवा के वाहन, रोडवेज बस सहित अन्य वाहन शामिल रहे। सूचना मिलते ही एनएच मार्ग खोलने में जुट गया। लगभग सात घंटे बाद इस स्थान पर मार्ग खुला तब जाकर फंसे वाहन गंतव्य को रवाना हुए।

पिथौरागढ़ से धारचूला के बीच बंदरलीमा, बिरखम और लखनपुर के पास मलबा आने से डीडीहाट, धारचूला, मुनस्यारी और बंगापानी तहसीलों का जिला मुख्यालय से सम्पर्क कटा रहा। सुबह तहसील क्षेत्रों से आने जाने वाले वाहन फंसे रहे। जौलजीबी से धारचूला के मध्य किमी 92 के पास मलबा आने से मार्ग बंद रहा। बीआरओ द्वारा मलबा हटाए जाने के बाद यातायात प्रारंभ हुआ। भारी बारिश से जिले नदी नालों का जलस्तर बढ़ने लगा है। कई सड़कों पर मलबा आया है।

जिला आपदा प्रबंधन विभाग से मिली जानकारी के अनुसार सबसे अधिक वर्षा 43 एमएम गंगोलीहाट में हुई। धारचूला में 26 एमएम, डीडीहाट में 14 एमएम, मुनस्यारी में 5.50 एमएम, पिथौरागढ़ में 4.50 एमएम और बेरीनाग में 4.70 एमएम बारिश हुई है। मौसम विभाग के अनुसार रविवार को भी मौसम खराब बताया गया है।

Edited By: Jagran