संवाद सूत्र, मुनस्यारी : हिमनगरी के लिए बनाई जा रही पेयजल योजना की खराब गुणवत्ता से नाराज विभिन्न संगठनों ने शनिवार को तहसील मुख्यालय में प्रदर्शन किया। क्षेत्रवासियों की नाराजगी को देखते पेयजल निगम ने योजना का निर्माण रुकवा दिया है।

मुनस्यारी में पेयजल संकट को देखते हुए सरकार ने हाल ही में नई पेयजल योजना की स्वीकृति दी थी। इसके लिए एक करोड़ की धनराशि स्वीकृत की गई है। निर्माण की गुणवत्ता को लेकर क्षेत्र को लोग सवाल उठा रहे हैं, लेकिन निर्माण एजेंसी द्वारा कोई ध्यान नहीं दिए जाने से खिन्न विभिन्न संगठनों के लोग शनिवार को सड़कों पर उतर आए। तहसील मुख्यालय में प्रदर्शन करते हुए क्षेत्रवासियों ने कहा कि स्रोत में हो रहे निर्माण कार्य में रेत की जगह मिट्टी लगाई जा रही है। वर्तमान मे तापमान दो डिग्री सेंटीग्रेड के आसपास चल रहा है। ऐसे समय में सीमेंट का कार्य कराया जा रहा है। इस तापमान पर सीमेंट सेट नहीं हो सकता है। प्रदर्शनकारियों ने कहा कि यह योजना क्षेत्र के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। स्थानीय लोगों के साथ ही साथ पूरा पर्यटन कारोबार इस योजना से जुड़ा हुआ है। गुणवत्ता का ध्यान नहीं रखा गया तो भविष्य में क्षेत्र के लोगों को परेशानी झेलनी पड़ेगी। क्षेत्रवासियों ने गुणवत्ता नहीं सुधारे जाने पर उग्र आंदोलन की चेतावनी दी है। क्षेत्रवासियों के आक्रोश को देखते पेयजल निगम ने योजना का निर्माण फिलहाल रोक दिया है। अधिशासी अभियंता वीके पाल ने कहा है कि गुणवत्ता की जांच के लिए मातहतों को जांच के निर्देश दिए गए हैं। तापमान बढ़ने के बाद ही सीमेंट का कार्य कराया जाएगा।

---

जिला पंचायत की बैठक में उठेगा मामला मुनस्यारी: तहसील मुख्यालय के लिए बन रही पेयजल योजना की गुणवत्त्ता का मामला जिला पंचायत की पहली बैठक में उठेगा। क्षेत्र के जिला पंचायत सदस्य जगत मर्तोलिया ने कहा है कि पेयजल संकट से जूझ रहे सीमांत के लोगों के लिए यह योजना बेहद महत्वपूर्ण है। इसकी गुणवत्ता से किसी तरह का समझौता नहीं किया जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस