जागरण संवाददाता, पिथौरागढ़: पिथौरागढ़ विधानसभा उपचुनाव में 47.48 प्रतिशत मतदान हुआ है। मतदान शांतिपूर्ण सम्पन्न रहा। अलबत्त्ता मतदान का प्रतिशत 2017 के विस चुनाव की अपेक्षा 17.40 प्रतिशत रहा। 2017 में 67007 मतदाताओं ने मतदान किया तो इस बार 50191 मतदाताओं ने मतदान किया। भाजपा, कांग्रेस और सपा के तीन प्रत्याशियों का भाग्य ईवीएम में बंद हो गया है। मतदान पार्टियां वापस लौटने लगी है। जिला मुख्यालय से लगभग आठ किमी दूर देवदार बूथ पर मतदान का बहिष्कार किया गया। सड़क की मांग को लेकर मतदान का बहिष्कार कर रहे ग्रामीणों ने बूथ पर प्रदर्शन किया। प्रशासन और प्रेक्षक द्वारा मतदाताओ को मतदान करने का प्रयास भी विफल रहा। मतदान के लिए आए मतदाता को भी ग्रामीणों ने मतदान नहीं करने दिया।

सोमवार सुबह आठ बजे से मतदान प्रारंभ हुआ। सुबह ठंड के चलते बूथों पर काफी कम लोग पहुंचे थे। पहले एक घंटे में नौ बजे तक मात्र 4.59 फीसद मतदान हुआ। नौ बजे के बाद भी मतदान में तेजी नहीं आई। नगर के अधिकांश बूथों पर इक्का दुक्का मतदाता मतदान के लिए आते रहे। नगर के एक दो बूथों पर कुछ देर के लिए लाइन दिखी परंतु जल्दी ही सुनसानी छा गई। वहीं नगर से लगे कुछ बूथों पर मतदान अन्य स्थानों से अधिक रहा। यही हाल ग्रामीण क्षेत्रों का भी रहा। मतदान केंद्रों पर मतदान कर्मी वोटरों का इंतजार करते नजर आए।

भाजपा प्रत्याशी चंद्रा पंत ने अपने परिजनों के साथ राबाइंका के बूथ पर और कांग्रेस प्रत्याशी अंजू लुंठी ने तड़ीगांव बूथ और सपा प्रत्याशी मनोज कुमार भट्ट ऊर्फ ललित मोहन ने विषाड़ के बूथ पर मतदान किया। सायं पांच बजे मतदान समाप्त हुआ। मतदान के दौरान जिला निर्वाचन अधिकारी डॉ. वीके जोगदंडे सहित प्रेक्षकों ने नगर सहित आसपास के मतदान केंद्रों का निरीक्षण किया। पांच बजे मतदान के बाद मतदान पार्टियों की वापसी होने लगी है। देर रात तक 109 मतदान पार्टियां जिला मुख्यालय में लौट आएंगी। ईवीएम को कड़ी सुरक्षा के बीच पीजी कालेज में बने स्ट्रांग रू म में जमा किया जा रहा है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021