संवाद सूत्र, बेरीनाग : बीते रोज क्षेत्र के भूनी गांव में दो महिलाओं की मौत के बाद सन्नाटा पसरा है। गांव में अभी भी 15 महिलाएं और बुजुर्ग बीमार हैं। इन लोगों को तीन किलोमीटर की खड़ी चढ़ाई पार कर सड़क तक पहुंचाने के लिए गांव में युवा नहीं हैं। बीमार लोगों को उपचार देने के लिए प्रशासन अब भी नहीं जागा है।

रविवार को भूनीगांव में 68 वर्षीय जयंती देवी और 72 वर्षीय धर्मा देवी की मौत हो गई थी। दोनों महिलाएं लंबे समय से बीमार थी और उन्हें उपचार नहीं मिल पाया था। गांव के युवा रोजगार के लिए बड़े शहरों में पलायन कर चुके हैं। बीमार महिलाओं को सड़क तक पहुंचाने के लिए गांव में एक भी युवा नहीं है। जागरण संवाददाता ने सोमवार को गांव पहुंचकर गांव के हालात जाने। गांव में सिर्फ महिलाएं और बुजुर्ग ही हैं। इन लोगों ने अपनी व्यथा सुनाते हुए कहा कि उन्हें लगता कि अपना राज्य बन गया है। राज्य गठन के 18 वर्ष बाद भी गांव के लिए सड़क नहीं बन पाना राज्य के नीति नियंताओं की अदूरदर्शी नीतियों की हकीकत बयां करता है। बुजुर्गो ने बताया कि कई बार गांव के लिए सड़क बनाए जाने की गुहार लगाई जा चुकी है, लेकिन विभाग सड़क स्वीकृत होने का झांसा देकर ग्रामीणों को गुमराह करता रहा है।

----------- जंगल में ही शिशु को देना पड़ा था जन्म

बेरीनाग: गांव में अपनी व्यथा सुनाते हुए गीता देवी ने बताया कि वर्ष 2013 में उन्हें प्रसव के लिए अस्पताल पहुंचना था। गांव में युवक थे नहीं जो उन्हें डोली में अस्पताल पहुंचाते इसलिए परिजनों के साथ वे पैदल ही तीन किलोमीटर दूर खड़ी चढ़ाई पर स्थित सड़क तक पहुंचने के लिए रवाना हुई, लेकिन रास्ते में ही उन्हें प्रसव वेदना शुरू हो गई और जंगल में ही उन्होंने शिशु को जन्म दिया। उन्होंने पूरी रात जंगल में ही गुजारी अगले रोज वह गांव लौट पाई।

------------ मृतका का पति भी बीमार

बेरीनाग: भूनी गांव में बीते रोज दम तोड़ने वाली जयंती देवी के पति फकीर सिंह भी बीमार पड़े हैं। उन्हें अब तक कोई उपचार नहीं मिल पाया है। गांव के लोग ही उनकी सेवा में जुटे हैं। पत्नी की मौत से सदमे में आए फकीर सिंह ने कहा कि सड़क नहीं होने से लोगों को उपचार नहीं मिल पा रहा है। इससे बड़ी बिडंबना और नहीं हो सकती।

---------

== वर्जन

गांव में कुछ लोगों के बीमार होने की सूचना मिली है। स्वास्थ विभाग को गांव में जाकर बीमार लोगों के उपचार के निर्देश दिए गए हैं। जल्द ही चिकित्सकों की टीम गांव पहुंचेगी। गांव के लिए सड़क निर्माण के मसले पर जल्द निर्णय लिया जाएगा।

-तुषार सैनी, एसडीएम, बेरीनाग

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस