जागरण संवाददाता, पौड़ी: प्रदेश में कोरोना को महामारी घोषित करने के बाद मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने हड़ताली कर्मचारियों का आह्वान किया कि वे काम पर लौट आएं। उन्होंने कहा कि हालात का मुकाबला करने के लिए जितनी जिम्मेदारी सबकी है, उतनी ही जिम्मेदारी कर्मचारियों की भी है। कहा कि ऐसे समय में कर्मचारियों को संवेदनशील होना चाहिए, हठधर्मिता ठीक नहीं है। सीएम ने कहा कि उनका किसी से कोई बैरभाव नहीं है, आम जन के हित को सर्वोच्च प्राथमिकता दी जानी चाहिए।

रविवार को पौड़ी के सर्किट हाउस में मीडिया से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि कोरोना से राज्य पूरी तरह सुरक्षित है और आगे भी रहेगा। कहा कि सरकार कोरोना से निपटने के लिए पूरी तरह से तैयार है। सतर्कता की दृष्टि से ही स्कूल-कॉलेज और सिनेमा हॉल बंद रखने के निर्णय लिए गए हैं। सभी मुख्य चिकित्सा अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए गए हैं।

इससे पहले, पौड़ी के निकट कांडई गांव स्थित अपनी ससुराल पहुंचे। दरअसल, पिछले दिनों उनकी पत्नी के बड़े भाई सुरेंद्र सिंह नेगी का निधन हुआ था। संवेदना व्यक्त करने के बाद वह लौट गए। इस दौरान उनके साथ उच्च शिक्षा राज्यमंत्री डॉ. धन सिंह रावत, क्षेत्रीय विधायक मुकेश कोली, जिला पंचायत अध्यक्ष शांति देवी, पालिकाध्यक्ष यशपाल बेनाम भी मौजूद थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस