जागरण संवाददाता, पौड़ी: उत्तर प्रदेश सरकार में शिक्षा एवं पर्वतीय विकास मंत्री रहे स्व. शिवानंद नौटियाल की 86 वीं जयंती पर उनके पैतृक गांव कोठला-सैंजी में उनकी प्रतिमा पर श्रद्धासुमन अर्पित कर याद किया गया। इस दौरान काफी संख्या में ग्रामीण मौजूद रहे।

हिदी साहित्य के प्रसिद्ध लेखक एवं कुशल राजनीतिज्ञ डा. शिवानंद नौटियाल का जन्म 28 जून 1926 को पौड़ी जनपद के ग्राम कोटला में हुआ था। वर्ष 1967 में इन्होंने सक्रिय राजनीति में पदार्पण किया तथा 1969 में पौड़ी गढ़वाल क्षेत्र से विधायक निर्वाचित हुए। 1974 तथा 1979 के विधानसभा चुनावों में भी जीत हासिल की। वह पौड़ी से दो बार और कर्णप्रयाग से छह बार विधायक बने। 1979 में डा. नौटियाल को उत्तर प्रदेश सरकार में उच्च शिक्षा एवं पर्वतीय विकास मंत्रालय का दायित्व सौंपा गया। उन्होंने अपने जीवनकाल में कई पुस्तकें भी लिखी। मंगलवार को उनकी जयंती पर आयोजित कार्यक्रम के दौरान सामाजिक कार्यकर्ता सुरेंद्र नौटियाल ने कहा कि डा. नौटियाल ने अपने मंत्री कार्यकाल के दौरान कई इंटर कालेज और डिग्री कालेज के अलावा सड़कों का निर्माण कर पहाड़ी क्षेत्रों में विकास की एक मजबूत बुनियाद स्थापित की। कहा कि दूरस्थ ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली, पेयजल, सड़क जैसी बुनियादी सुविधाओं को लेकर उन्होंने हमेशा मिशन के रूप में कार्य किया, जिसे कभी भुलाया नहीं जा सकता। यही वजह है कि वे आज भी आमजन के बीच लोकप्रिय जनप्रतिनिधि के रूप में जाने जाते हैं। इस मौके पर संजय नौटियाल, कांता प्रसाद, नंद राम, कैलाश नौटियाल, शैलजा नौटियाल, मीना देवी, मोहित नौटियाल, शिवांशु नौटियाल, कमला देवी, मनोज नौटियाल, देवी प्रसाद, प्रिया नौटियाल आदि मौजूद रहे।

Edited By: Jagran