जागरण संवाददाता, कोटद्वार:

श्रम मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत ने कहा कि श्रम विभाग में पंजीकृत श्रमिकों के लिए अब उनके घर में राशन का किट पहुंचाया जाएगा। ताकि उन्हें लॉकडाउन में किसी भी तरह की परेशानी न झेलनी पड़े।

बुधवार को कोटद्वार में श्रम विभाग की ओर शुरू की गई श्रमिक राशन किट योजना के उद्घाटन अवसर पर डॉ. हरक सिंह रावत ने कहा कि प्रदेश में दो लाख छत्तीस हजार श्रमिक श्रम विभाग मे पंजीकृत हैं। कहा कि कोरोना संक्रमण के कारण शुरू हुए लॉकडाउन का सबसे अधिक खामियाजा श्रमिक वर्ग को भुगतना पड़ा है। कहा कि लॉकडाउन के कारण श्रमिकों के सामने दो वक्त की रोटी का संकट खड़ा हो गई है। कहा कि श्रमिकों की इसी समस्या को ध्यान में रखते हुए प्रथम व द्वितीय चरण में श्रमिकों के खाते में एक-एक हजार की धनराशि भेज दी गई थी। बताया कि तृतीय चरण में श्रमिकों को खाद्यान्न किट दिए जा रहे हैं। खाद्यान्न किट लेने के लिए श्रमिकों को कार्यालय के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे, बल्कि किट को पंजीकृत श्रमिक के आवास तक पहुंचाना विभाग की जिम्मेदारी होगी। इस मौके पर सहायक आयुक्त अरविद सैनी, श्रम निरीक्षक बीपी जुयाल के साथ ही इंडियन फार्म फारेस्ट्री डेवलपमेंट कॉरपोरेटिव लिमिटेड के उमेश त्रिपाठी सहित कई अन्य मौजूद रहे।

होंगे नए पंजीकरण

श्रम विभाग में पंजीकरण करवाने से वंचित श्रमिकों के नए सिरे से पंजीकरण किए जाएंगे। हालांकि यह पंजीकरण पूरी तरह अस्थायी होंगे। डॉ. रावत ने यह जानकारी देते हुए बताया कि अस्थाई पंजीकृत 75 हजार श्रमिकों को खाद्यान्न किट दिया जाएंगे। बताया कि भविष्य में इन श्रमिकों का स्थाई पंजीकरण भी किया जा सकेगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस