जागरण संवाददाता, कोटद्वार: नगर में चल रही गढ़वाल रायफल्स रेजीमेंटल सेंटर की भर्ती रैली में फर्जी प्रमाणपत्रों के आधार पर सेना में भर्ती होने का प्रयास कर रहे सात युवकों को सेना ने दबोच लिया। दबोचे गए युवाओं में से एक फरार होने में कामयाब रहा, जबकि छह अन्य को सेना के जवानों ने दबोच लिया। देर शाम तक युवकों को पुलिस के सुपुर्द नहीं किया था।

कोटद्वार के विक्टोरिया क्रास विजेता गबर ¨सह कैंप में इन दिनों गढ़वाल रायफल्स रेजीमेंटल सेंटर की भर्ती प्रक्रिया चल रही है। आज रविवार को जनपद चमोली के अंतर्गत जोशीमठ, कर्णप्रयाग, थराली, गैरसैंण की भर्ती प्रक्रिया चल रही थी। सुबह करीब दस बजे तक दौड़ की प्रक्रिया संपन्न हुई। दौड़ प्रक्रिया पूर्ण होने के बाद निर्धारित समय में दौड़ पूर्ण करने वाले युवाओं के प्रमाणपत्रों की जांच के साथ ही शारीरिक नापजोख शुरू हुई। प्रमाणपत्रों की जांच के दौरान सात युवकों के प्रमाणपत्र फर्जी पाए गए। इससे पहले, सैन्यकर्मी इन युवकों को दबोचते, एक युवक मौका देख फरार हो गया, जबकि छह युवकों को भर्ती रैली में मौजूद अधिकारियों ने मौके पर बिठा दिया।

बताया जाता है कि शुरुआत में जब युवकों से पूछताछ की गई तो वे स्वयं को चमोली जनपद का निवासी बता रहे थे, लेकिन जब उनसे चमोली जनपद के मूल वा¨शदों से लोकभाषा में बात करवाई गई तो पूरा मामला प्रकाश में आ गया। पता चला कि युवकों ने बिजनौर जनपद में ही फर्जी प्रमाणपत्र तैयार करवाए। इधर, कोतवाली प्रभारी उत्तम ¨सह जिमिवाल ने बताया कि सेना की ओर से फर्जी प्रमाणपत्रों से भर्ती रैली में भाग लेने वाले युवकों को पुलिस के सुपुर्द नहीं किया है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस