संवाद सहयोगी, कोटद्वार: कोटद्वार क्षेत्र में बंदरों और कुत्तों का काफी आतंक है। यहां बेस अस्पताल में प्रतिदिन 10-12 मरीजों को एंटी रैबीज वैक्सीन लगाए जाते हैं। लेकिन, पिछले 15 दिनों से चिकित्सालय में वैक्सीन खत्म हैं, जिसके चलते लोगों को परेशानी हो रही है।

कोटद्वार के राजकीय बेस चिकित्सालय में प्रतिमाह 200-300 एंटी रैबीज वैक्सीन का इस्तेमाल होता है। रोजाना तकरीबन 15 मरीज वैक्सीन लगवाने पहुंचते हैं। लेकिन, बीते 15 दिनों से एंटी रैबीज वैक्सीन खत्म होने के चलते लोगों को मायूस होकर लौटना पड़ रहा है। चिकित्सालय प्रशासन ने बकायदा वैक्सीन खत्म होने का नोटिस बोर्ड भी लगा दिया है। अस्पताल में वैक्सीन न मिलने के कारण लोगों को बाहर से वैक्सीन लगवानी पड़ रही है, जो मरीजों की जेब पर भारी पड़ रही है।

बाहर से एंटी रैबीज वैक्सीन 200-300 रुपये की पड़ रही है। भाबर क्षेत्र से वैक्सीन लगवाने पहुंचे दिनेश कुमार, राम ¨सह, दीपा देवी आदि ने बताया कि वे पिछले कई दिनों से एंटी रैबीज वैक्सीन के लिए चिकित्सालय का चक्कर काट रहे हैं। लेकिन, अबतक इंजेक्शन नहीं मंगाया गया है। बताया कि उन लोगों ने कई बार अस्पताल प्रशासन से इस संबंध में बात की, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। इसे लेकर मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. आइएस सामंत ने बताया कि एंटी रैबीज वैक्सीन को लेकर डिमांड भेजी गई है, लेकिन अभी तक वैक्सीन नहीं मिल गई है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप