संवाद सहयोगी, कोटद्वार: सात सूत्रीय मांगों के निराकरण को लेकर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का धरना एक माह बाद भी जारी रहा। कार्यकर्ताओं ने प्रदेश सरकार पर अनदेखी का आरोप लगाते हुए जल्द मांगों का निराकरण नहीं होने पर प्रदेश स्तरीय आंदोलन की चेतावनी दी है। कहा कि सरकार की अनदेखी किसी भी हाल में बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

गुरुवार को बारिश के बाद भी तहसील परिसर में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता धरने पर डटी रही। कार्यकर्ताओं ने राज्य सरकार पर उनकी घोर अपेक्षा का आरोप लगाया। कहा कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ता विषम परिस्थितियों में ग्रामीण अंचल में काम कर रही हैं, ऐसे हालात में सरकार को उनकी मांगों पर तुरंत कार्रवाई करनी चाहिए। कार्यकर्ताओं ने उन्हें राज्य कर्मचारी घोषित करने, मानदेय बढ़ाकर 18 हजार रुपए करने समेत सात सूत्रीय मांगों का निराकरण नहीं होने तक आंदोलन जारी रखने की चेतावनी दी। कहा कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के धरने को एक माह से अधिक का समय हो चुका है, लेकिन अब तक शासन-प्रशासन का कोई भी अधिकारी उनसे मिलने तक नहीं पहुंचा। इस मौके पर सुनीता देवी, अंबिका रावत, कदंबनी देवी, कलावती, अनीता सेमवाल, मंजू कुकरेती आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस